होम लाइफस्टाइल Brain Fog के लक्षणों को ना करें नजरअंदाज, हो सकती है गंभीर...

Brain Fog के लक्षणों को ना करें नजरअंदाज, हो सकती है गंभीर मानसिक समस्या

ब्रेन फॉग (Brain Fog) एक ऐसी दिमागी स्थिति है, जिसमें भ्रम, विस्मृति, और ध्यान की कमी जैसी मानसिक समस्या (Mental Problem) होने लगती है। यह अधिक काम करने, नींद की कमी, तनाव और कंप्यूटर पर बहुत अधिक समय बिताने के कारण हो सकता है। ब्रेन फॉग में आपका मूड, ऊर्जा और फोकस प्रभावित होते हैं। हार्मोन का असंतुलित स्तर पूरे सिस्टम को प्रभावित कर सकता है। इसके अलावा, ब्रेन फॉग के कारण मोटापा, असामान्य मासिक धर्म (Abnormal Menstruation) और मधुमेह मेलिटस (Diabetes Mellitus) जैसी समस्या भी हो सकती है।

इन कारणों से हो सकता है ब्रेन फॉग

खराब लाइफस्टाइल के कारण ब्रेन फॉग जैसी समस्या हो सकती है, खराब लाइफस्टाइल हार्मोनल असंतुलन को बढ़ाती है, जिससे तनाव बढ़ जाता है। इसके अलावा, कंप्यूटर, मोबाइल फोन, टैबलेट के अधिक इश्तेमाल से भी ये समस्या हो सकती है।

तनाव से हो सकता है ब्रेन फॉग

वहीं एक्सपर्ट्स का कहना है कि पुराना तनाव रक्तचाप को बढ़ा सकता है, याददाश्त और प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होने लगता है और अवसाद को ट्रिगर कर सकता है। इससे मानसिक थकान भी हो सकती है। जब आपको ब्रेन फॉग की समस्या होती है तो सोचना, तर्क करना और ध्यान केंद्रित करना कठिन हो जाता है।

नींद की कमी के कारण

नींद की खराब गुणवत्ता भी आपके मस्तिष्क के काम करने में बाधा डाल सकती है और आगे चल कर ब्रेन फॉग जैसी समस्या हो सकती है । प्रति रात 8 से 9 घंटे सोने का लक्ष्य रखें। बहुत कम सोने से एकाग्रता प्रभावित होती है।

हार्मोनल परिवर्तन के कारण

हार्मोनल परिवर्तन भी ब्रेन फॉग को ट्रिगर कर सकते हैं। गर्भावस्था के दौरान प्रोजेस्टेरोन और एस्ट्रोजन हार्मोन के स्तर में वृद्धि होती है। यह परिवर्तन स्मृति को प्रभावित कर सकती है। इसी तरह महिलाओं में रजोनिवृत्ति के दौरान एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट के कारण भूलने की बीमारी, खराब एकाग्रता और धुंधली सोच हो सकती है।

आहार के कारण भी हो सकता है ब्रेन फॉग

ब्रेन फॉग आहार के कारण भी हो सकता है, विटामिन बी -12 स्वस्थ मस्तिष्क के लिए जरूरी होता है, इसकी कमी ब्रेन फॉग का कारण बन सकती है। यदि आपको कुछ तरह के खान पान से एलर्जी है, तो ये ब्रेन फॉग विकसित कर सकते हैं। आम तौर पर कुछ लोगों में मूंगफली और डेयरी प्रोडक्ट्स से एलर्जी होती है।

दवा से भी हो सकता है ब्रेन फॉग

यदि आपको किसी दवा को लेने से ब्रेन फॉग जैसा लक्षण महसूस होता है तो अपने डॉक्टर से बात करें। अपनी खुराक कम करने या किसी अन्य दवा पर स्विच करने से आपके लक्षणों में सुधार हो सकता है। वहीं कैंसर के इलाज के बाद ब्रेन फॉग भी हो सकता है। इसे कीमो ब्रेन कहा जाता है।

इन बीमारियों में ब्रेन फॉग होने की संभावना बढ़ जाती है

ब्रेन फॉग कई बीमारियों जैसे रक्ताल्पता, डिप्रेशन, मधुमेह, सिरदर्द, अल्जाइमर रोग, हाइपोथायरायडिज्म
ऑटोइम्यून रोग जैसे ल्यूपस, गठिया और मल्टीपल स्केलेरोसिस के रोगियों में होने की संभावना ज्यादा होती है। हाइपोथायरायडिज्म वाले किसी व्यक्ति के बालों के झड़ने, शुष्क त्वचा, वजन बढ़ने या भंगुर नाखून के साथ ब्रेन फॉग हो सकता है।

इन लक्षणों को ना करें नजरअंदाज

याददाश्त की समस्या, मानसिक स्पष्टता में कमी, कमज़ोर एकाग्रता, ध्यान केंद्रित करने में असमर्थता, असामान्य ग्लूकोज स्तर, खराब लीवर, किडनी और थायराइड फंक्शन, पोषक तत्वों की कमी, संक्रमण, सूजन संबंधी समस्या महसूस होने पर डॉ. से संपर्क करें। परिणामों के आधार पर आपका डॉक्टर तय करेगा कि आगे की जांच करनी है या नहीं। एक्स-रे, एमआरआई, या सीटी स्कैन की सहायता से समस्या के बारे में पता लगाया जा सकता है।

क्या है इसका इलाज

ब्रेन फॉग उपचार कारण पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए, यदि आप एनीमिक हैं, तो आयरन सप्लीमेंट आपके लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन को बढ़ा सकता है और आपके मस्तिष्क कोहरे को कम कर सकता है। यदि आपको एक ऑटोइम्यून बीमारी है, तो आपका डॉक्टर कॉर्टिकोस्टेरॉइड या अन्य दवा की सेवन के लिए कह सकता है। कभी-कभी, ब्रेन फॉग खान पान में सुधार करने से या दवाओं को बदलने से ठीक हो जाता है।

कोरोना मरीजों में भी ब्रेन फॉग

कुछ रिपोर्स्ल के मुताबिक पोस्ट कोविड कई लोगों में ब्रेन फॉग जैसी समस्या बढ़ी है। कोरोना के कारण लोगों के मस्तिष्क पर भी असर पड़ा है, 30 फीसद मरीजों में न्यूरो से संबंधित लक्षण देखे गए हैं। एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह कई मरीजों में कोरोना से ठीक होने के बाद तीन से छह माह तक रह सकता है, बाद में यह धीरे-धीरे ठीक होगा। बता दें कि कोरोना संक्रमण के कारण आक्सीजन की कमी होने से हाइपोक्सिया होता है। इस वजह से मस्तिष्क में भी आक्सीजन की कमी होती है। इससे मस्तिष्क को नुकसान पहुंचता है और कार्यक्षमता प्रभावित होती है। कुछ मरीजों के मस्तिष्क में ब्लड क्लाट की समस्या भी हो सकती है। स्ट्रोक और मस्तिष्क के अंदर सूजन (ब्रेन इंसेफेलाइटिस) के मामले भी आ रहे हैं।

(नोट: किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह लें। APN इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है।)

ये भी पढ़ें

Dairy Products से है एलर्जी तो इन स्रोतों से पूरी कीजिए Calcium की कमी

फायदों से भरपूर है Pineapple, जानिए खाने का सही तरीका

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Ganesh Ji के हैं भक्त तो, बुधवार को ऐसे करें पूजा, दूर होंगे सारे कष्ट

मान्यता है कि श्री गणेश की पूजा का विशेष दिन है बुधवार। साथ ही, इस दिन बुध ग्रह के निमित्त भी पूजा की जाती है। यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध ग्रह अशुभ स्थिति में हो तो बुधवार को गणेश जी का पूरे विधि विधान से पूजा करने से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं।

आज से शुरु होगी Katrina Kaif-Vicky Kaushal की हल्दी सेरेमनी, कई सेलेब्स भी हो सकते हैं शामिल

विकी कौशल (Vicky Kaushal) और कैटरीना कैफ (Katrina Kaif) अपनी शादी को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं। कल यानी 7 दिसंबर को मेंहदी का कार्यक्रम हुआ था उसके बाद रात में संगीत का जश्न मनाय़ा गया जिसमें पंजाबी सिंगर गुरदास मान ने पंजाबी गानों से पुरे किले को शुर के ताल से भर दिया था।

Katrina Kaif-Akshay Kumar स्टारर फिल्म ‘Sooryavanshi’ अब Netflix पर

अक्षय कुमार (Akshay Kumar) और कैटरीना कैफ (Katrina Kaif) स्टारर फिल्म सूर्यवंशी (Sooryavanshi) बॉक्स ऑफिस पर धमाल मचा रही है। फिल्म दर्शकों को सिनेमाघरों तक खींचने में कामयाब रही है। कैटरीना कैफ और अक्षय कुमार की बड़े बजट की फिल्म सूर्यवंशी काफी हिट साबित हुई हैं । रोहित शेट्टी द्वारा निर्देशित, एक्शन 5 नवंबर को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी।

Omicron Variant पर सख्त हुई योगी सरकार, लखनऊ में 50% क्षमता के साथ ही खोले जा सकते हैं रेस्टोरेंट, होटल, सिनेमा हॉल

दक्षिण अफ्रीका (South Africa) के बोत्सवाना (Botswana) में 24 नवंबर को मिले कोरोना (Corona) के नए वेरिएंट से दुनिया दहशत में है। यह वायरस भारत में अब तक 23 लोगों को अपना शिकार बन चुका है। वहीं दुनिया भर में 30 से अधिक देशों में फैल चुका है। ओमिक्रॉन (Omicron) के बढ़ते खतरे को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार सख्त हो गई है। सरकार ने राजधानी लखनऊ में धारा 144 लगा दी है। वहीं घर से निकलने पर मास्क लगाना अनिवार्य होगा। वरना पहले की तरह फाइन भरना पड़ेगा। रेस्टोरेंट, होटल, सिनेमा हॉल, मल्टीप्लेक्स, जिम, स्टेडियम 50% क्षमता के साथ ही खोले जा सकते हैं। साथ ही बंद जगहों पर होने वाले आयोजनों मे 100 अधिक लोग शामिल नहीं हो सकते हैं। यह आदेश तत्काल प्रभाव  से लागू हुआ है।