Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

कहते हैं कि मां-बाप से ज्यादा प्यार किसी इंसान को कोई नहीं कर सकता है। भले ही औलाद अपनी जिम्मेदारियों से मुंह मोड़ लें, लेकिन मां-बाप मुसीबत में कभी अपने बच्चों का साथ नहीं छोड़ते। इस प्यार का जीता जागता उदाहरण आज हम आपको देने जा रहे हैं। हाथरस के द्वारिकापुर में एक पिता ने अपने बेटे के प्रति अपने प्यार की मिसाल दी है। 48 साल के सतीश चन्द्र ने अपने बेटे की तलाश में 1500 किलोमीटर साइकिल चलाई। अब इस पिता की मदद के लिए पुलिस आगे आई है।

एसपी हाथरस ने मामले में पुलिस की लापरवाही सामने आने की बात पर एक जांच कमिटी गठित की है। इसके अतिरिक्त सतीश के बेटे को खोजने के लिए विशेष टीम गठित की है। इसके साथ पुलिस सोशल मीडिया पर लोगों से सहयोग की मांग कर रही है।

आपको बता दें कि सतीश का 11 साल का अपाहिज बेटा गोदना 5 महिने पहले अचानक लापता हो गया था। बेटे के लापता होने की शिकायत दर्ज कराने वह थाने पहुंचा था लेकिन पुलिस ने उसकी कोई सुनवाई नहीं की और उसे थाने से भगा दिया गया था। उसके पास इतने रुपये भी नहीं थे कि वह कुछ और कर सकता। इसलिए वह साइकिल लेकर बेटे को खोजने निकल पड़ा। वह कई शहरों में लगातार भूखा प्यासा रहकर साइकिल चलाता रहा। गांवों में रुककर बेटे की फोटो दिखाकर उसके बारे में पूछता। इस दौरान उसने 1,500 किलोमीटर साइकिल चलाई और आगरा पहुंचा।

आगरा में एक सामाजिक कार्यकर्ता ने उसकी मदद की और सोशल मीडिया में अभियान चलाया। हाथरस के एएसपी दिनेश कुमार ने बताया कि वे लोग सतीश के संपर्क में है। उससे केस की सारी जानकारी ली जा रही है। उसके बेटे को खोजने का हर संभव प्रयास किया जाएगा। हाथरस पुलिस ट्विवटर पर भी लोगों से सहयोग मांग रही है।

हाथरस एसपी चंद्रभान ने बताया कि उनके पास शिकायत आई है कि सतीश का बेटा पांच महीने पहले लापता हो गया था। इसकी शिकायत उसने दर्ज कराई थी। पुलिस ने उसका कर्तव्य नहीं निभाया और उसके बेटे को खोजने का कोई प्रयास नहीं किया। इस मामले में एक आंतरिक जांच कमिटी गठित की गई है। इसके अलावा गोदना को ढूंढने के लिए भी एक विशेष टीम बनाई गई है। वहीं प्राथमिक तौर पर इस मामले की जांच शुरु कर दी गई है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.