Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

एकतरफ सरकार पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ा रही है तो वहीं दूसरी तरफ विपक्षी पार्टियों के कार्यकर्ता सरकारी संपत्तियां जला कर राख कर रहे हैं। आम जनता में एक बच्ची की मौत हो चुकी है और बच्चों का स्कूल आना-जाना बंद हो चुका है। चारों तरफ हिंसा का माहौल है और पुलिस प्रशासन मुश्तैदी से अराजक तत्वों की तलाश कर रही है। हालांकि पकड़े जाने पर वो किसी पार्टी के होंगे ये पता नहीं। ऐसे में कुल मिलाकर भारत बंद है। कांग्रेस का कहना है कि मोदी सरकार अपना वादा निभाने से पीछे हट रही है। पेट्रोल-डीजल का दाम दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है। जबकि मोदी सरकार का कहना है कि पेट्रोल-डीजल का दाम को घटाना-बढ़ाना उनके हाथ में नहीं है। ऐसे में क्या, किसके हाथ में है ये पता लगाना मुश्किल हो रहा है।

इन सब के बीच बीजेपी के तरफ से पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम पर अजीबो-गरीब बयान भी आ रहे हैं। राजस्थान सरकार के एक मंत्री ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ी हुई कीमतों पर अजीबोगरीब बयान दिया है। मंत्री राजकुमार ने कहा है कि अगर क्रूड ऑयल की कीमतें बढ़ रही हैं तो जनता पेट्रोल-डीजल की खपत कम क्यों नहीं कर देती। वहीं बिहार के पूर्व डिप्टी सीएम  तेजस्वी यादव ने पेट्रोल-डीजल की बढ़ी हुई कीमतों पर पीएम मोदी  पर तंज कसा है। तेजस्वी ने ट्वीट कर कहा है कि – ‘पेट्रोल-डीज़ल और गैस की क़ीमतों पर मोदी जी कहते थे। मैं यह कर दूँगा, वो कर दूँगा, आकाश को धरती पर ला दूँगा। क्या हुआ मोदी जी? आप तो तेल की क़ीमतों को ही आकाश पर ले गए। अब कह रहे है 2022 तक कर दूंगा’।

बता दें कि इस भारत बंद से सबसे ज्यादा दिक्कत आम जनता को हुआ है। बिहार में भारत बंद का असर सबसे ज्यादा देखा गया है। बिहार के जहानाबाद में भारत बंद के दौरान दो साल की बच्ची की मौत हो गई है। परिवारवालों ने आरोप लगाया है कि भारत बंद के कारण कोई वाहन नहीं मिला, इसलिए बच्ची का इलाज नहीं हो पाया। इसके विपरीत जहानाबाद के एसडीओ पारितोष कुमार ने सफाई देते हुए कहा कि बच्ची की मौत जाम में एंबुलेंस फंसने की वजह से नहीं हुई है। बल्कि उसके परिजन उसे देर से अस्पताल लेकर जा रहे थे। बच्ची के मौत पर लोगों में गुस्सा व्यापत है। रविशंकर प्रसाद ने सवाल पूछा कि भारत बंद की वजह से जहानाबाद में  मासूम बच्ची की मौत के लिए कौन जिम्मेदार है? उन्होंने बच्ची की मौत का जिम्मेदार सीधे तौर पर राहुल गांधी को ठहराया है।

देश की मायानगरी मुंबई में भी भारत बंद का असर हिंसा के रूप में देखा गया। मुंबई में महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) ने महंगाई के खिलाफ सड़कों पर उतरकर विरोध-प्रदर्शन किया है। एमएनएस कांग्रेस के बुलाए भारत बंद का समर्थन कर रही है। कई लोगों ने वाहनों पर पत्थर फेंके हैं। स्कूल बसों पर भी पथराव किया गया है। पुणे में भी बच्चों का स्कूल जाना जान की आफत बना रहा। भारतीय जनता पार्टी के सांसद अनिल शिरोले ने कुछ तस्वीरें पोस्ट कर दावा किया है कि बंद के दौरान प्रदर्शनकारियों ने पुणे में स्कूल बस पर हमला किया।

भाजपा ने विपक्षियों द्वारा भारत बंद को विफल बताया है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस और अन्य विपक्षी पार्टियां गुस्से में आकर खौफ का माहौल बना रहे हैं। जब जनता का समर्थन नहीं मिल रहा है तो उग्रता सहारा लिया जा रहा है। विरोध करने का अधिकार सभी को है लेकिन इस प्रकार हिंसा करना कितना जायज है। विपक्ष को हिंसा का तांडव बंद करना चाहिए। पुलिस प्रशासन ने भी देशभर से हजारों लोगों को हिरासत में लिया है। पश्चिम बंगाल में 20 लेफ्ट कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया है। ये सभी कार्यकर्ता दुर्गापुर रेलवे स्टेशन में जबरन घुसने की कोशिश कर रहे थे। महाराष्ट्र के मुंबई में भारत बंद के दौरान प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.