होम ज़रा हटके संस्कृति Guru Teg Bahadur Martyrdom Day: सिखों के 9वें गुरु तेग बहादुर जी...

Guru Teg Bahadur Martyrdom Day: सिखों के 9वें गुरु तेग बहादुर जी को कहा जाता है हिंद की चादर, आज है शहीदी दिवस

Guru Teg Bahadur Martyrdom Day: देश के इतिहास में भारत माँ के कुछ ऐसे वीर सपूत भी हुए हैं, जो धर्म की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व बलिदान करने से भी पीछे नहीं हटे। उन्हीं में से एक हैं सिखों के 9वें गुरु तेग बहादुर जी (Guru Teg Bahadur Ji), जिन्हें अक्सर हिंद की चादर कहा जाता है, जिसका अर्थ है भारत की ढाल। हर साल 24 नवंबर को तेग बहादुर जी का शहीदी दिवस मनाया जाता है। गुरु तेग बहादुर ने इंसानियत के कल्याण के लिए अपने प्राणों की आहुती दे दी थी।

अमृतसर में हुआ था जन्म

गुरु तेग बहादुर जी का जन्म बुधवार 18 अप्रैल 1621 को पंजाब के अमृतसर नगर में हुआ था। सिखों के छठवें गुरु, गुरु हरगोविंद जी उनके पिता थे। आठवें गुरु गुरु हरकिशन जी की असमय मृत्यु के बाद उनको नौवां गुरु बनाया गया। उनके पुत्र गुरु गोविंद सिंह दशवे गुरु बने थे। धर्म और मानवीय मूल्यों, आदर्शों और सिद्धांत की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वालों में गुरु तेग बहादुर साहब का स्थान अद्वितीय है।

औरंगजेब ने गुरुजी का शीश कर दिया था कलम

सिखों के नौवें गुरु, गुरु तेग बहादुर जी ऐसे साहसी योद्धा थे, जिन्होंने खुशी खुशी अपनी जान दे दी लेकिन इस्लाम कबूल नहीं किया। इन्होंने न सिर्फ सिक्खी परचम ऊंचा किया, बल्कि अपने सर्वोच्च बलिदान से सिख पंथ की भी रक्षा की। उन्होंने मुगल बादशाह औरंगजेब की तमाम कोशिशों के बावजूद इस्लाम धर्म कबूल नहीं किया और तमाम जुल्मों का पूरी हिम्मत से सामना किया। गुरु तेग बहादुर जी के धैर्य और संयम से आग बबूला हुए औरंगजेब ने चांदनी चौक पर उनका शीश काटने का हुक्म जारी कर दिया और वह 24 नवंबर 1675 का दिन था, जब गुरु तेग बहादुर जी ने देश धर्म की रक्षा के लिए अपना बलिदान दिया। उनके अनुयाइयों ने उनके शहीदी स्थल पर एक गुरुद्वारा बनाया, जिसे आज गुरुद्वारा शीश गंज साहैब के तौर पर जाना जाता है।

गुरुजी की 5 शिक्षाएं

महान कार्य छोटे-छोटे कार्यों से बने होते हैं।

सफलता कभी अंतिम नहीं होती, विफलता कभी घातक नहीं होती, इनमें जो मायने रखता है वो है साहस।

सभी जीवित प्राणियों के प्रति सम्मान अहिंसा है।

दिलेरी डर की गैरमौजूदगी नहीं, बल्कि यह फैसला है कि डर से भी जरूरी कुछ है।

जीवन किसी के साहस के अनुपात में सिमटता या विस्तृत होता है।

यह भी पढ़ें:

Tipu Sultan Birthday: बहु विवाह, बाल विवाह पर जब Tipu Sultan ने कहा था ऐसी प्रथाओं में आग लगा देनी चाहिए, Breast Tax पर लगाई थी रोक

Guru Nanak Jayanti 2021: सिखों के पहले गुरु गुरुनानक जी की जयंती आज, उनकी यह 10 शिक्षाएं बदल सकती हैं जीवन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Modi Government ने दिल्ली-NCR में प्रदूषण नियंत्रण के लिए टास्क फोर्स का गठन किया

सुप्रीम कोर्ट में गुरुवार को दिल्ली-एनसीआर प्रदूषण मामले पर सुनवाई के दौरान Modi Government ने दाखिल हलाफ़नमे में जानकारी दी है कि केंद्र सरकार ने प्रदूषण नियंत्रण के लिए टास्क फोर्स का गठन किया है।

‘Tadap’ Screening पर Ahan Shetty के पोस्टर को Salman Khan ने किया KISS, वायरल हुआ वीडियो

अभिनेता अहान शेट्टी (Ahan Shetty) और तारा सुतारिया (Tara Sutaria) अपनी अपकमिंग फिल्म तड़प (Tadap) को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं। बता दें कि ‘तड़प’ 3 दिसंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही है। जिसके लिए मुंबई में ‘तड़प’ का शानदार प्रीमियर हुआ। जहां रिया चक्रवर्ती, काजोल, सलमान (salman khan) खान समेत कई सितारे पहुंचे थे।

देश के पहले राष्ट्रपति Rajendra Prasad की आज जयंती, प्रधानमंत्री ने किया नमन

देश के पहले राष्ट्रपति Rajendra Prasad की आज जयंती है। पूरा देश भारत भारत रत्न को याद कर रहा है। प्रधानमंत्री (Prime...

साउथ की ‘Marakkar’ ने रिलीज से पहले कमाए 100 करोड़, सलमान-अक्षय कुमार की फिल्म को दी मात

मलयालम सुपरस्टार मोहनलाल (Mohanlal) की फिल्म मरक्कर(Marakkar )लॉयन ऑफ द अरेबिन सी 2 दिसम्बर को रिलीज हो चुकी है। Marakkar फिल्म के आइडिया पर मोहनलाल और डायरेक्टर प्रियदर्शन काफी लंबे समय से काम कर रहे थे। आपको बता दें कि यह पहली ऐसी फिल्म है जो कि रिलीज से पहले ही एडवांस बुकिंग से 100 करोड़ रुपए का बिजनेस कर लिया है। इस बात की जानकारी खुद फिल्म के डायरेक्टर मोहनलाल ने सोशल मीडिया के जरिए दी है।