Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

भारी वित्तीय संकट से जूझ रही एयर इंडिया के अच्छे दिनों की आस लगातार कमजोर होती जा रही है। तेल सप्लाई पर रोक की खबरों के बीच। सरकारी विमानन कंपनी को उस वक्त तगड़ा झटका लगा। जब कंपनी के करीब 120 एयरबस ए-320 के पायलटों ने इस्तीफा दे दिया। ये सभी अपने वेतन और प्रमोशन नहीं होने से नाराज थे। पायलटों ने शिकायत की है कि कंपनी उनकी सेलरी नहीं बढ़ा रही थी और ना ही उन्हें प्रमोशन दिया जा रहा है।

इस्तीफा देने वाले पायलटों का कहना है कि कंपनी उनकी मांगों को लगातार नजरअंदाज कर रही थी। जिसकी वजह से अब उन्होंने इस्तीफा दे दिया है। एयर इंडिया के बढ़ते कर्ज को देखते हुए केंद्र सरकार 100 फीसदी हिस्सेदारी बेचने की तैयारी में है। इतना ही नहीं, सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में 76 फीसदी हिस्सेदारी बेचने का प्लान भी तैयार कर लिया था, लेकिन तब किसी ने भी हिस्सेदारी को खरीदने के लिए रुचि नहीं दिखाई थी।

बता दें कि एयर इंडिया पर तीन तेल कंपनियों का 4 हजार 500 करोड़ रुपये से अधिक का बकाया भी है। जिसे हवाई कंपनी ने पिछले कईं महीनों से नहीं चुकाया है। इसी हफ्ते तेल कंपनियों ने एयर इंडिया को एक अंतिम चेतावनी जारी करते हुए 18 अक्तूबर तक मासिक एकमुश्त भुगतान करने को कहा था। ऐसा नही करने पर छह प्रमुख घरेलू हवाई अड्डों पर ईंधन की आपूर्ति बंद करने की चेतावनी भी दी थी।

हाल ही में एयर इंडिया के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने मंत्री समूह को बताया था। कि कंपनी को हर महीने 300 करोड़ रुपये सिर्फ कर्मचारियों की सैलरी देने के लिए चाहिए। मंत्री समूह में गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रेल मंत्री पीयूष गोयल और नागर विमानन मंत्री हरदीप सिंह पुरी शामिल हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.