Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

राजस्थान चुनाव से पहले वाड्रा के ज़मीन सौदे पर सियासी तूफ़ान खड़ा होता दिख रहा है। रॉबर्ट वाड्रा के बीकानेर लैंड डील के मामले में अब इनकम टैक्स विभाग के अधिकारी प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के निशाने पर आ गए हैं। इसी मामले में ईडी ने वाड्रा को भी समन भेजा है। बताया जा रहा है कि प्रवर्तन निदेशालय ने रॉबर्ट वाड्रा को 13 नवंबर को समन भेजा था और 26 नवंबर को हाजिर होने के कहा था, लेकिन वह ED के समक्ष पेश ही नहीं हुए।

दरअसल, राजस्थान के बीकानेर में विवादित जमीन के सौदों के कई मामलों की जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय की जांच में बड़ा खुलासा हुआ है। ये बात सामने आ रही है कि वाड्रा की जमीन खरीदने के लिए लोन देने वाली कंपनी को टैक्स पैनल से बड़े पैमाने पर छूट मिली है। प्रवर्तन निदेशालय जिन विवादित जमीन के सौदे के मामले की जांच कर रहा है, उसमें वाड्रा की संपत्ति भी शामिल थी।

ये भी पढ़ें:  बीकानेर भूमि घोटाला मामले में ईडी ने राबर्ट वाड्रा के परिचित के ठिकाने पर मारा छापा

अब ईडी ने इनकम टैक्स सेटलमेंट कमीशन से भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड से जुड़ी कार्यवाही का ब्योरा मांगा है। बीपीएसएल ही वह कंपनी है, जिसने वाड्रा की जमीन खरीदने वाली कंपनी को लोन दिया है। इस कंपनी ने तय कीमत से सात गुना ज्यादा पर जमीन खरीदी।

तत्कालीन ईडी डायरेक्टर करनैल सिंह ने दो महीने पहले ही कमीशन से पत्र लिखकर बीपीएसएल केस के ब्योरे की मांग की थी। साथ ही साथ उस फैसले की भी जानकारी मांगी थी, जिसे सुरक्षित रख लिया गया था। करनैल सिंह ने पुनर्गठित बेंच के ब्योरे की भी मांग की थी, जिसने कथित तौर पर बीपीएसएल को राहत देने के लिए नियमों में हेरफेर की थी।

ये भी पढ़ें: वाड्रा टिकट गेट से बिफरी कांग्रेस ने पत्रकारों से की बदत्तमीजी

इतना ही नहीं ED का आयकर विभाग पर भी शिकंजा कसता दिख रहा है। वाड्रा मामले में आरोप है कि जिस कंपनी ने वाड्रा की कंपनी से जमीन खरीदी उस कंपनी को भूषण पॉवर एंड स्टील ने 5.64 करोड़ का लोन दिया।

आरोप है कि जब 2011 में आयकर विभाग ने भूषण पावर एंड स्टील की आय का आकलन कर जवाब मांगा था, इसके बाद ही भूषण पावर एंड स्टील ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन खरीदने के लिए एलीजीनी कंपनी को लोन दिया था। इसी लोन के बाद आयकर विभाग ने कथित तौर पर भूषण पावर एंड स्टील की याचिका सेटेलमेंट कमीशन के सामने मंजूर हो गई। अब आयकर विभाग के अधिकारियों से प्रवर्तन निदेशालय पूछताछ कर सकता है।

वहीं वाड्रा ने कहा कि भाजपा राजस्थान में चुनावी मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए मुझे विवादों में घसीट रही है। उन्होंने  फेसबुक पोस्ट के जरिए सफाई में कहा, ”जैसे-जैसे राजस्थान चुनाव पास आ रहे हैं। मीडिया में अचानक मेरे खिलाफ झूठे आरोपों के आधार पर सवाल उठाए जाने लगे हैं। एजेंसियों के अधिकारी सालों पुराने मामलों की जानकारी लीक कर रहे हैं। बीते चार साल में मैंने इन मामलों में पूरा सहयोग किया। यह दुखद है कि भाजपा बदले की राजनीति के लिए इस तरह के हथकंडे अपना रही है। उम्मीद है कि स्वतंत्र और प्रोफेशनल मीडिया राजस्थान के जरूरी मुुद्दों पर केंद्रित रहेगी।”

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.