Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

काशीपुर, रामनगर, धुमाकोट, त्रिपालीसैण, कोटद्वार और मेरठ का सफर करने से पहले खुद को मजबूत कर लीजिये। क्योंकि यहां से गुजरने वाली एनएच 119 में गड्ढे ही गड्ढे हैं। मानसून की पहली फुहारों ने ही उत्तराखंड से गुजरने वाली नेशनल हाइवे समेत तमाम सड़कों की पोल खोल कर रख दी है। नेशनल हाइवे की सड़कों में गड्ढों और पानी के जमावड़े की ये तस्वीरें पौड़ी जिले की हैं।

एनएच 119 में गड्ढे ही गड्ढे

जिला मुख्यालय पौड़ी में पौड़ी-श्रीनगर नेशनल हाइवे, कोटद्वार-पौड़ी नेशनल हाइवे और पौड़ी रामनगर नेश्नल हाईवे में बड़े-बड़े गड्डे किसी बड़े हादसे को न्योता दे रहे हैं और पीडब्ल्यूडी विभाग खामोश बैठकर बड़े हादसे का इंतजार कर रहा हैं। एपीएन के पूछने पर कमिश्नर गढ़वाल एनएच 119 के गड्ढों को भरने के लिये लोक निर्माण विभाग को निर्देश देने का भरोसा देते दिखे।

एनएच 119 पर आए दिन हो रहीं हैं दुर्घटनाएं

पौड़ी-श्रीनगर नेशनल हाइवे में बड़े-बड़े खतरनाक गड्ढों में हर रोज कोई ना कोई गिरकर चोटिल हो रहा है। सब कुछ देखते और जानते हुये भी कोई जिम्मेदार अधिकारी गड्ढों को भरने के लिये कोई कदम नहीं उठा रहे हैं। लोगों का साफ-साफ कहना है कि गड्ढों से वाहन चालकों को तो दिक्कतें हो ही रहीं हैं साथ ही पैदल चलने वाले लोगों को भी बारिश के समय इन खतरनाक गड्ढों का मुकाबला करना पड़ता हैं। आए दिन हो रही दुर्घटनाओं से स्थानीय लोग जिला प्रशासन और पीडब्ल्यूडी के नकारापन से बेहद आक्रोशित है।

पौड़ी से सफर करने के पहले खुद को करें मजबूत

पूछने पर डीएम पौड़ी ने जल्द ही सड़कों की हालत सुधारने का आश्वासन दिया है। लेकिन डीएम साहब के रहते नेशनल हाइवे 119 समेत तमाम सडकों की दुर्दशा को अब तक नहीं सुधारा गया इसका कोई जवाब उनके पास नहीं है।

पौड़ी से काशीपुर, रामनगर, धुमाकोट, त्रिपालीसैण, कोटद्वार और मेरठ का सफर करानेवाली एनएच 119 के दिन कब बहुरेंगे। गड्ढों को भरने के लिये लोक निर्माण विभाग कब आगे आएगा। कब डीएम और कमिश्नर जागेंगे। नकारे अधिकारियों की जिम्मेदारी कब तय करेंगे। इसका इंतजार कीजिये क्योंकि आप उस उत्तराखंड में हैं जहां मानसून में सड़कें तलाशनी पड़ती हैं। ऐसे में सैकड़ों किलोमीटर की दूरी तय करा आपको अपनी मंजिल तक पहुंचाने वाली नेशनल हाइवे की फिक्र पौड़ी के साहबों को कब होगी। ये सवाल सरकार और शासन में बैठे लोगों से हर वक्त पूछिये। तभी हालात बदलेंगे।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.