Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह गुरुवार को बेंगलुरु में तेजस लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (LCA) उड़ाने वाले भारत के पहले रक्षा मंत्री बने। जी-सूट पहने, राजनाथ सिंह आगे की सीट पर पायलट के साथ फाइटर जेट के कॉकपिट में गए। राजनाथ सिंह ने तेजस में उड़ान भरने को अदभुत और शानदार बताया।

राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया कर कहा, “बेंगलुरु के एचएएल हवाई अड्डे से एक स्वदेशी लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट ’तेजस’ पर उड़ान भरना एक अद्भुत और शानदार अनुभव था। तेजस एक मल्टी-रोल फाइटर है जिसमें कई महत्वपूर्ण क्षमताएं हैं। यह भारत की वायु रक्षा क्षमताओं को मजबूत करने के लिए है ”।

उन्होंने कहा कि यह बहुत स्मूथ और आरामदायक थी। मुझे मजा आ रहा था। मैं एचएएल, डीआरडीओ और कई संबंधित एजेंसियों को बधाई देना चाहता हूं। हम उस स्तर पर पहुंच गए हैं जहां हम दुनिया भर में लड़ाकू विमानों का निर्यात कर सकते हैं।

एन तिवारी बेंगलुरू में एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) के नेशनल फ्लाइट टेस्ट सेंटर में परियोजना निदेशक हैं। रक्षा मंत्रालय के एक अधिकारी ने बुधवार को बताया था कि स्वदेशी तकनीक से निर्मित तेजस के विकास से जुड़े अधिकारियों का हौसला बढ़ाने के उद्देश्य से रक्षा मंत्री इस हल्के लड़ाकू विमान में उड़ान भरेंगे। अधिकारी ने कहा था ”उनके इस कदम से भारतीय वायुसेना के उन पायलटों का मनोबल भी बढ़ेगा जो यह विमान उड़ा रहे हैं।

तेजस, भारतीय वायुसेना की 45वीं स्क्वाड्रन ‘फ्लाइंग ड्रैगर्स’ का हिस्सा है। इसे विमान को हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) और एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी ने डिजाइन और विकसित किया है। वायुसेना ने दिसंबर 2017 में HAL को 83 तेजस फाइटर जेट बनाने का जिम्मा सौंपा था। इसके लिए करीब 50 हजार करोड़ रुपये की डील हुई थी। रक्षा अनुसंधान और विकास संस्थान (DRDO) ने इसी साल 21 फरवरी को बेंगलुरु में हुए एयरो शो में इसे फाइनल ऑपरेशनल क्लीयरेंस जारी किया था। यानी तेजस युद्ध के लिए पूरी तरह से तैयार है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.