Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

बुधवार को हुई कैबिनेट मीटिंग में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा ई-सिगरेट पर पूरी तरह से बैन लगाने के बाद से सोशल मीडिया पर जंग छिड़ी हुई है। बहस का मुद्दा यह नहीं है कि सिगरेट पर बैन लगा बल्कि यह कि ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा स्वास्थ्य मंत्रालय के बजाय वित्त मंत्री ने क्यों की ?
बायोकॉन की एमडी किरण शॉ मजूमदार ने वित्त मंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद ट्विटर पर लिखा, ‘वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ई-सिगरेट पर प्रतिबंध लगाए जाने का ऐलान किया। क्या ये घोषणा स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से नहीं की जानी चाहिए थी? गुटखा पर प्रतिबंध लगाए जाने पर क्या विचार है? वित्त मंत्रालय के बारे में क्या जो अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने के लिए कुछ उपायों की घोषणा कर रहा है?’


वित्त मंत्री सीतारमण ने शॉ के ट्वीट पर जवाब देते हुए कहा, ”किरण जी, कुछ चीजें हैं। कैबिनेट के निर्णयों के बारे में जानकारी देने के लिए प्रेस कांफ्रेंस की गई थी। मैंने शुरुआत मंग ही कहा था कि इस मुद्दे पर मंत्रिसमूह की अध्यक्ष होने के नाते मैं वहां थी। डॉक्टर हर्षवर्धन एक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के लिए देश से बाहर हैं।”

sitaraman

अगले ट्वीट में उन्होंने कहा, ‘केंद्रीय मंत्री जरूरत पड़ने पर सूचना और प्रसारण मंत्री के साथ होते हैं। विस्तार से जानकारी देने के लिए स्वास्थ्य सचिव भी मेरे साथ थीं। जैसा कि आप जानती हैं ये प्रोटोकॉल है, जिस पर सरकारी प्रेस कॉन्फ्रेंस में अमल किया जाता है।’

उन्होंने आखिरी ट्वीट में कहा, ‘वित्त मंत्री के तौर पर, जैसा कि आपने देखा भी होगा, मैं लगातार काम कर रही हूं और अर्थव्यवस्था के मुद्दे पर उठाए गए कदमों को लेकर नियमित तौर पर बोलती हूं।’

वित्त मंत्री की प्रतिक्रिया के बाद किरण शॉ मजूमदार ने ट्वीट किया, ”मुझे अब समझ में आ गया। मेरी शंका को दूर करने के लिए और आपकी प्रतिक्रिया के लिए वास्तव में आभारी हूं।”

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.