होम विदेश Kazakhstan में तेल की बढ़ती कीमतों पर भारी विरोध, Russia की बुलानी...

Kazakhstan में तेल की बढ़ती कीमतों पर भारी विरोध, Russia की बुलानी पड़ी सेना

कजाखस्‍तान (Kazakhstan) पिछले तीन दिनों से जल रहा है। देश में कई सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई है। कई लोग घायल हैं और हिंसा बढ़ती जा रही है। मध्य ऐशिया (Central Asia) का यह देश अपनी सरकार से नाराज है। तेल से समृद्ध देश में फ्यूल की कीमत बढ़ने पर जनता सड़क पर उतार और राष्ट्रपति भवन को आग के हवाले कर दिया। देश में हालात इतने खराब हैं कि राष्‍ट्रपति कासिम जोमार्ट (President Kassym‑Jomart Tokayev) को रूस (Russia) की सरकार से मदद मांगनी पड़ी। कजाखस्‍तान (Kazakhstan) में हिंसा बढ़ते देख राष्ट्रपति ने रूसी राष्ट्रपती व्लादिमीर पुतिन ( President Vladimir Putin) से अपनी सेना भेजने के लिए कहा जिसके बाद देश में हालात कुछ काबू में है।

Kazakhstan में हालात खराब

Kazakhstan Condition
Kazakhstan Condition

तनावपूर्ण हालात को देखते हुए राष्ट्रपति ने देश में दो सप्ताह के लिए आपातकाल घोषित कर दिया है। राष्ट्रपति ने कहा कि प्रदर्शनकारी आतंकी बन चुके हैं उनके लिए इमरजेंसी की उपाय है। तेल की बढ़ती कीमतों पर लोगों में इसकदर गुस्सा है कि उन्होंने सरकारी इमारतों को आग के हवाले कर दिया।

Kazakhstan
Kazakhstan

प्रदर्शनकारियों ने कजाखस्‍तान के सबसे बड़े शहर अल्माटी में राष्ट्रपति और मेयर के घर में तोड़फोड़ की और उसे आग के हवाले कर दिया। हिंसा फैलाने वाले कुछ प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षाबलों को गोलियां भी चलानी पड़ी है।

बता दें कि इस समय कजाखस्‍तान में भयंकर ठंड पड़ रही है। इतनी ठंड की खून जम जाए लेकिन फिर भी प्रदर्शनकारी सड़कों पर हिंसा फैला रहे हैं। इन्हें काबू में करने के लिए पुलिस ने पान की बौछार भी की पर कोई असर नहीं हुआ।

Kazakhstan में इस साल का सबसे बड़ा प्रदर्शन

Kazakhstan
Kazakhstan

तेल की कीमतों में उछाल को लेकर चल रहे प्रदर्शन के बीच कजाखस्‍तान के प्रधानमंत्री आस्कार मामिन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। राष्ट्रपति ने उनका त्यागपत्र स्वीकार भी कर लिया है। मामिन ने इस्तीफे के बाद वीडियो संदेश जारी कर कहा था कि सरकार और सेना पर हमले के लिए आह्वान करना पूरी तरह से अवैध है। सरकार नहीं गिरेगी लेकिन हम चाहते हैं कि आपसी विश्‍वास हो और संवाद न कि विवाद।

कजाखस्‍तान की 1991 की स्वतंत्रता के बाद यह इस साल का सबसे बड़ा विरोध प्रदर्शन माना जा रहा है। तेल की कीमतों का दाम दोगना करने पर सबसे पहले प्रदर्शन पश्चिमी शहर के झानाओजेन में हुआ उसके बाद पूरे देश में फैल गया।

संबंधित खबरें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Bahujan Samaj Party ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए 51 उम्मीदवारों की लिस्ट की जारी

Bahujan Samaj Party प्रमुख मायावती ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए दूसरे चरण के 51 उम्मीदवार की सूची जारी की।

IPL 2022 के मेगा ऑक्शन के नीलामी लिस्ट से बाहर हुए Chris Gayle, गेल सहित अब इन खिलाड़ियों का जलवा नहीं दिखेगा

IPL 2022 के मेगा ऑक्शन के लिए खिलाड़ियों की लिस्ट जारी कर दी गई है। आईपीएल 2022 मेगा ऑक्शन का आयोजन अगले महीने 12 और 13 फरवरी को किया जाएगा। नीलामी से पहले आईपीएल की दो नई टीमें अहमदाबाद और लखनऊ ने अपने तीन-तीन खिलाड़ियों के नामों का ऐलान कर दिया है। नीलामी के लिए इस बार 1214 खिलाड़ियों ने अपना रजिस्ट्रेशन कराया है। लेकिन इस लिस्ट में कई बड़े नाम शामिल नहीं हैं, जिन्हें आप इस बार खेलते नहीं देखेंगे।

What is Surrogacy: भारत में Surrogacy को लेकर क्या है कानूनी प्रक्रिया? कितना आता है खर्च?

What is Surrogacy: भारत में इन दिनों Surrogacy की चर्चा खूब हो रही है। बॉलीवुड के कई सितारे अभी हाल ही में सरोगेसी की मदद से माता- पिता बने हैं।

PESB GAIL Recruitment 2022: गेल में निकली भर्ती, 31 मार्च तक करें अप्लाई

PESB Gail Recruitment 2022: Gail में भर्ती के लिए आवेदन पत्र जारी किया गया है।