होम अपना प्रदेश Maharashtra News: मुंबई की सड़के जलमग्न...सड़को पर भरा पानी...पानी मे टूटी हुई...

Maharashtra News: मुंबई की सड़के जलमग्न…सड़को पर भरा पानी…पानी मे टूटी हुई लकड़ी पर बैठे Ganpati Bappa

Maharashtra News:हर साल मुंबई (Mumbai) के परेल (Parel)में बारिश (Rain) की वजह से जल-जमाव की परेशानी से लोगों को जूझना पड़ता है। इस बार उसी परेशनी को देखते हुए गणपती बप्पा (Ganpati Bappa) की मूर्ति बनाई गई है। मुंबई के परेल परिसर में हर साल बारिश से सड़के जलमग्न (Roads Submerged) हो जाती है। बारिश से पहले हर साल बीएमसी नाले की सफाई में करोड़ो रुपये खर्च करती है फिर भी हालत जैसे के तैसे ही रहते है। कुछ ऐसे ही दृश्य को लेकर मुंबई के प्रतीक्षा नगर में इस बार गणेश मूर्ति का पंडाल सजाया गया है। जिसमें भारी बारिश से लोगों को हो रही परेशानियों को दर्शाने का प्रयास किया गया है।

हर साल की तरह इस बार भी गणेश उत्सव (Ganeshotsav) आया का त्यौहार आया है। इस बार भी मुंबई के परेल की सड़के जलमग्न हो गई है। गणेश भक्तों के दिलों में तो उत्साह अपार है लेकिन सड़कों पर यह उत्साह पिछले साल की तरह इस साल भी दिखाई नहीं दे पाएगा।

कोविड-19 के चलते, गणेशोत्सव के दौरान लोगों को पंडाल में जाने की अनुमति नहीं

बता दें कि इस बार मुंबई में के पंडालों में दर्शन की अनुमति नहीं है। यहां धारा 144 लागू कर दी गई है। साथ ही जुलूस निकालने पर भी रोक लगाई गई है। सूबे की सरकार कहना है कि कोविड-19 महामारी के चलते, गणेशोत्सव के दौरान लोगों को पंडाल में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। राज्य के गृह विभाग की ओर से कहा गया कि पंडाल से केवल ऑनलाइन दर्शन की अनुमति दी जाएगी। बीएमसी ने घर में स्थापित किए जाने वाले गणपति की मूर्तियों की ऊंचाई दो फुट जबकि सार्वजनिक मंडलों के लिए चार फुट तक सीमित कर दी है।

ये भी पढ़ें-Ganesh Chaturthi 2021: 1893 में गणेश उत्सव की हुई थी शुरुआत, पहली बार शूद्रों ने किया था बप्पा का दर्शन

कब से हुई गणेश चतुर्थी पूजा की शुरूआत

गणेश चतुर्थी पूजा की शुरूआत की सही तारीख किसी को शायद पता नहीं है, हालांकि इतिहास के अनुसार, यह अनुमान लगाया गया है कि गणेश चतुर्थी 1630-1680 के दौरान छत्रपति शिवाजी (मराठा साम्राज्य के संस्थापक) के समय में एक सार्वजनिक समारोह के रूप में मनाया जाता था। शिवाजी के समय, यह गणेशोत्सव उनके साम्राज्य के कुलदेवता के रूप में नियमित रूप से मनाना शुरू किया गया था। पेशवाओं के अंत के बाद, यह एक पारिवारिक उत्सव बना रहा, यह 1893 में बाल गंगाधर लोकमान्य तिलक की ओर से इसे पुनर्जीवित किया गया।

गणेश चतुर्थी एक बड़ी तैयारी के साथ एक वार्षिक घरेलू त्यौहार के रूप में हिंदू लोगों की ओर से मनाना शुरू किया गया था। सामान्यतः यह ब्राह्मणों और गैर ब्राह्मणों के बीच संघर्ष को हटाने के साथ ही लोगों के बीच एकता लाने के लिए एक राष्ट्रीय पर्व के रूप में मनाना आरंभ किया गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Bollywood News Updates: 9 दिसंबर को Vicky Kaushal की दुल्हनिया बनेंगी Katrina Kaif, पढ़ें Entertainment से जुड़ी सभी खबरें

Bollywood News Updates: बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल (Vicky Kaushal) और कैटरीना कैफ (Katrina Kaif) अपनी शादी को लेकर लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। दोनों कुछ ही दिन में शादी के बंधन में बंधने वाले हैं। बता दें कि हाल ही में खबर फैली थी कि सलमान खान और उनकी फैमिली राजस्थान में कैटरीना की शादी में शामिल होगी। पर अब India Today की रिपोर्ट के मुताबिक सलमान की बहन अर्पिता ने इन सभी बातों पर विराम लगा दिया है।

कर्नाटक में मिले Omicron वैरिएंट के दो मामले, पढ़ें 2 दिसंबर की सभी बड़ी खबरें

APN News Live Updates: दुनिया भर में Omicron का खौफ देखने को मिल रहा है। साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन लगा दिया गया है। ओमिक्रोन वेरिएंट अब 25 देशों में फैल गया है। दरअसल कोविड के नए स्ट्रेन ने अब अमेरिका (US) और यूएई (UAE) में भी दस्तक दे दी है। भारत में भी कुछ मामले पाए जाने की संभावना है। भारत में भी हाई रिस्क वाले देशों से आए 6 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

Supreme Court ने Tripura और Bengal हिंसा को एक जैसा माना, अब हाईकोर्ट में होगी मामले की सुनवाई

Tripura में हुई हिंसा के मामले की सुनवाई गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में हुई। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने त्रिपुरा सरकार के खिलाफ TMC के द्वारा लगाए गए आरोपों को हाईकोर्ट के सामने रखने को कहा है। कोर्ट ने TMC के आरोपों को बंगाल चुनाव के दौरान हुई हिंसा में TMC के खिलाफ लगाए गए आरोपों के समान माना है। बता दें कि TMC और अन्य दलों द्वारा त्रिपुरा हिंसा में जांच को लेकर याचिका दाखिल की गई थी।

Jawad Cyclone Live Tracking: ओडिशा और आंध्र प्रदेश की ओर बढ़ रहा है Jawad, PM मोदी ने चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) ने आज ओडिशा और आंध्र प्रदेश की ओर आने वाले संभावित चक्रवाती तूफान Jawad से निपटने के लिए तैयारियों की समीक्षा की और अधिकारियों को निर्देश दिए। पीएम ने लोगों को प्रभावित क्षेत्रों से निकालने, आवश्यक सेवाओं को बनाए रखने और व्यवधान के मामलों में तेजी से बहाली के निर्देश दिए हैं।