Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

बिहार में नवजात के साथ फिर एक अस्पताल ने संवेदनहीनता का परिचय दिया है। पटना के महावीर वात्सल्य हॉस्पिटल से एक बड़ी लापरवाही की घटना सामने आई है। जहां अस्पताल के आईसीयू वार्ड में भर्ती एक नवजात को अस्पताल प्रशासन ने चीटियों से कटने के लिए छोड़ दिया गया।

नवजात वार्ड में भर्ती रहा लेकिन न तो डॉक्टर और न ही किसी सफाई कर्मचारी ने उसकी तरफ ध्यान दिया। नवजात के तन पर कपड़े तक नहीं थें। चीडियों के काटने से उसके तन पर निशान तक पड़ गये। मामला सामने आने के बाद अस्पताल प्रशासन कुछ भी बोलने से इंकार कर रहा है।

आईसीयू में मरीजों की देखभाल के लिए अलग से कर्मी रखने होते है, जो मरीज के खाने-पीने, नहलाने, साफ-सफाई के साथ शौचालय तक की व्यवस्था करते है। मगर यहां ऐसी कोई व्यवस्था नजर नहीं आई।

बता दें पटना से यह कोई पहला मामला नहीं सामने आया इससे पहले बिहार के ही दरभंगा में डीएमसीएच अस्पताल में चूहों के काटने से एक नवजात की मौत हो गई। नौ दिन के मासूम को एनआईसीयू में भर्ती कराया गया था।

रात के वक्त जब परिजन बच्चे को देखने के लिए एनआईसीयू में गए, तो बच्चे के हाथ-पांव को चूहे खा रहे थे। वहां पर कोई नर्स और डॉक्टर नहीं थे। आनन-फानन में जब नर्स को बाहर से बुलाया गया, तो जानकारी मिली कि बच्चा मर चुका है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.