पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने केन्द्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई वाली राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार को सभी मोर्चे पर विफल करार दिया और कहा कि मोदी सरकार जनता से किये किसी भी वादे को पूरा करने में नाकाम रही है। डॉ सिंह ने आज यहां संवाददाता सम्मेलन में केन्द्र के साथ-साथ मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि पिछले लोकसभा चुनाव में नरेन्द्र मोदी ने देश की जनता से कई वादे किये थे। इनमें प्रति वर्ष दो करोड़ रोजगार देने का वादा भी किया गया था। करीब साढ़े चार साल बीत जाने के बावजूद रोजगार के मोर्चे पर कोई ठोस काम नहीं किया गया। ऐसा लगता है कि मोदी सरकार में रोजगार का वादा भी जुमला बनकर रह गया है।


पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि मोदी सरकार के साढ़े चार साल के कार्यकाल के दौरान देश मुसीबत में रहा है। देश की जनता महंगाई से त्रस्त रही। पेट्रोल-डीजल के दाम लगातार बढ़ते रहे। उन्होंने नोटबंदी को सरकार की बड़ी विफलता बताते हुए कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से किसान, व्यापारी, छोटे और लघु उद्योग सर्वाधिक मुसीबत में हैं।


डॉ सिंह ने मोदी सरकार पर राष्ट्रीय संस्थाओं के दुरूपयोग का आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जुड़ा मामला अभी सर्वोच्च न्यायालय में है। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि देश में इन संस्थाओं की हालत ऐसी क्यों हुई। उन्होंने राफेल विमान सौदे का जिक्र करते हुए कहा कि इससे जुड़े तथ्यों को छुपाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दल संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच की मांग कर रहे हैं लेकिन मोदी सरकार इसके लिए तैयार नहीं है। इससे ऐसा लगता है कि दाल में कुछ काला है।

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री पद की गरिमा के अनुरूप नरेन्द्र मोदी काम नहीं कर रहे हैं। प्रधानमंत्री को अपने विरोधियों के खिलाफ अपशब्द कहना शोभा नहीं देता। उन्होंने कहा कि सरदार वल्लभ भाई पटेल और सुभाष चंद्र बोस महान नेता रहे हैं। लेकिन ये कहना ठीक नहीं है कि हम उनका सम्मान नहीं कर सके। डॉ सिंह ने अपने कार्यकाल के दौरान मध्यप्रदेश के साथ सौतेला व्यवहार करने के आरोप को सिरे से नकारते हुए कहा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में हमेशा मध्यप्रदेश की मदद की। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कभी इस बात से इंकार नहीं करेंगे। उन्होंने आगे कहा कि यही ‘इंटरस्टेट’ रिश्ते हैं, हर प्रदेश को मदद मिलनी चाहिए।

पूर्व प्रधानमंत्री ने शिवराज सरकार को रोजगार, किसान और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर घेरते हुए कहा कि प्रदेश में करीब डेढ़ दशक से सत्तारूढ़ भाजपा सरकार नये रोजगार के सृजन में विफल साबित हुई है। एमबीए समेत अन्य प्रतिष्ठित डिग्री लिये लाखों युवा रोजगार की तलाश में आज भी भटक रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार में सर्वाधिक किसानों ने आत्महत्या की है। राज्य में प्रत्येक पांच घंटे में किसान आत्महत्या करने को मजबूर हैं। प्रदेश में स्वास्थ्य योजनाओं की भी स्थिति शर्मनाक है। प्रदेश में करीब 40 लाख कुपोषण का शिकार है। प्रदेश में 90 हजार बच्चे अपना पहला जन्म दिन भी नहीं देख पाते है। उन्होंने दावा कि मध्य प्रदेश के लोगों के दिलों में कांग्रेस हमेशा रहेगी।

-साभार, ईएनसी टाईम्स

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here