Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

लोकसभा चुनाव नजदीक हैं और हाल ही में तीन राज्यों में मिली हार के बाद पीएम मोदी लोकसभा चुनाव को लेकर कोई भी लापरवाही बरतना नहीं चाहते हैं। लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र की मोदी सरकार के लिए बेरोजगारी का मुद्दा चिंता के तौर पर उभरा है।बेरोजगारी के मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए तीन मंत्रालयों (मानव संसाधन विकास, श्रम और कौशल विकास)  ने अंडरग्रैजुएट्स को प्रशिक्षित करने और उनके लिए रोजगार के मौके पैदा करने के लिए हाथ मिलाया है। यह कार्यक्रम 2019 से शुरू होने वाला है।  पिछले हफ्ते इन तीनों मंत्रालयों के मंत्रियों और शीर्ष अधिकारियों ने प्रोग्राम को लेकर अहम बैठक की थी। अगले कुछ दिनों में इस प्रोग्राम को ये मंत्रालय संयुक्त तौर पर लॉन्च कर देंगे।

2019-20 अकैडमिक सेशन में 10 लाख स्टूडेंट होंगे टारगेट
2019 से लागू होने जा रहे इस प्रोग्राम के टारगेट पर 2019-20 अकैडमिक सेशन में 10 लाख स्टूडेंट होंगे। नैशनल अप्रेंटिसशिप प्रमोशन स्कीम के लिए 10,000 करोड़ रुपये आवंटित हुए थे, जो करीब-करीब वैसे के वैसे ही पड़े हुए हैं। लिहाजा, इस राशि का इस्तेमाल स्टाइपेंड-बेस्ड अप्रेंटिसशिप के लिए किया जाएगा। ऑन-द-जॉब ट्रेनिंग के दौरान मिलने वाले स्टाइपेंड का 25 प्रतिशत या 1500 रुपये तक सरकार वहन करेगी। केंद्र में सत्तारूढ़ मोदी सरकार एक मेगा ‘अप्रेंटिसशिप’ प्रोग्राम शुरू करने की तैयारी में है। जिसके तहस प्राइवेट और सरकार की ओर से वित्त पोषित उच्च शिक्षण संस्थाओं के ह्यूमैनिटीज या गैर-तकनीकी कोर्सेज के छात्रों पर फोकस किया जाएगा। इसका उद्देश्य इन छात्रों को रोजगार के लिहाज से तैयार करना और जैसे ही वे ग्रैजुएट हों, उन्हें जॉब दिलाने में मदद करना है।

6 से 10 महीने तक की होगी अप्रेंटिसशिप
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस मेगा अप्रेंटिसशिप प्रोग्राम के तहत डिग्री प्रोग्राम्स के फाइनल इयर के स्टूडेंट्स को चुना जाएगा। 6 से 10 महीने तक की अप्रेंटिसशिप और संभावित नियोक्ताओं के यहां ऑन-द-जॉब ट्रेनिंग की व्यवस्था की जाएगी, जिस दौरान स्टूडेंट्स को स्टाइपेंड भी मिलेंगे।

नॉन-टेक्निकल कोर्सेज के छात्रों की होगी करियर काउंसलिंग
दरअसल नॉन-टेक्निकल कोर्सेज के छात्रों को रोजगार पाने में दिक्कत होती है। इस सेगमेंट के ज्यादातर छात्र नौकरी पाने में नाकाम रहते हैं, क्योंकि सिर्फ कुछ प्रतिशत छात्र ही पोस्ट-ग्रैजुएशन या आगे की पढ़ाई करते हैं। ऐसे में नॉन-टेक्निकल कोर्सेज के छात्रों की करियर काउंसलिंग की जाएगी और उन्हें अप्रेंटिसशिप के जरिए जॉब-रेडी बनाने की योजना है।

हर छात्र को बेसिक ट्रेनिंग
हाई-क्वॉलिटी अप्रेंटिसशिप सुनिश्चित करने के लिए इस प्रोग्राम से सेंट्रल पब्लिक सेक्टर यूनिट्स और इंडस्ट्री के दिग्गजों को भी जोड़ा जाएगा। इससे पास करके कॉलेज से निकलने वाले हर छात्र को बेसिक ट्रेनिंग और ऑन-द-जॉब ट्रेनिंग मिल सकेगी।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.