पाकिस्तान: सिंध प्रांत में सिद्धी विनायक मंदिर पर भीड़ ने किया हमला, वीडियो में मूर्तियों को खंडित करते दिखे पाकिस्तानी

0
193

पाकिस्तान के सिंध प्रांत से फिर हिंदुओं के अपमान की तस्वीरें सामने आईं हैं। एक बार फिर इमरान खान की पुलिस के सामने पाकिस्तानियों ने हिंदू मंदिर पर हमला कर दिया। देवी देवताओं की मूर्तियों को बूरी तरह खंडित किया। हालात इतन बेकाबू हो गए की स्थिती को संभालने के लिए पाकिस्तानी रेंजर्स को बुलाना पड़ा। गजब बात तो यह है कि यह पूरा वाक्या सिंध पुलिस के सामने होता रहा और पुलिस खड़ी होकर तमाशा देखती रही।

घटना पाकिस्तान के सिंध प्रांत के रहीम यार खान जिले के भोंग शहर में हुई है। यहां पर भीड़ ने सिद्धी विनायक मंदिर पर हमला कर दिया। बता दें कि घटना बुधवार को हुई है और बुधवार का दिन गणेश जी को समर्पित है। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि मंदिर में भक्तों की भारी भीड़ रही होगी।

घटना वाली जगह लौहर से करीब 590 किलोमीटर दूरी पर स्थित है। पूरी घटना पर सिंध पुलिस का कहना है कि, भीड़ ने मदरसे के अपमान का बदला लिया है। यही कारण है कि मंदिर पर हमला किया गया।

बता दें भोंग शहर में दशकों से हिंदू शांतिपूर्वक ढंग से रह रहे हैं। बीते हफ्ते एक आठ वर्षीय हिंदू बच्चे ने कथित तौर पर मदरसे की लाइब्रेरी में पेशाब कर दिया था, जिसके बाद इलाके में तनाव की स्थिति बन गई थी।

मंदिर में भंयकर तोड़फोड़ होने के बाद पाकिस्तानी सरकार निंद से उठी और सिंध पुलिस को फौरन कार्यवाही करने का निर्देश दिया। बता दें कि सत्ताधारी पाकिस्तानी तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के सांसद डॉक्टर रमेश कुमार वंकवनी अपने ट्विटर हैंडल से वीडियो को ट्वीट करते हुए अपराधियों को पकड़ने का आदेश दिया। खैर तब तक मामला हाथ से निकल चुका था।

घटना वाले इलाके में करीब 100 हिंदू परिवार रहते हैं और किसी भी अप्रिय घटना को टालने के लिए पुलिस बल भी तैनात किए गए हैं। हालांकि, अभी तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नहीं की गई है।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे 1 मिनट 58 सेकंड के वीडियो मे दिख रहा है कि किस तरह से उत्पाती भीड़ मंदिर में आतंक मचा रही है। बांस की बल्लियों से देवी देवताओं की मूर्तियों को खंडित कर रही है। वीडियो में दिख रहा है कि भीड़ कृष्ण जी और गणेश जी की मूर्तियों को पूरी ताकत के साथ तोड़ रही है।

बता दें कि पाकिस्तान की कुल जनसंख्या 223,275,135 करोड़ है। इसमें 44.45 मिलियन अल्पसंख्यक हिंदू रहते हैं। यहां पर हिंदुओं की हिस्सेदारी सिर्फ 2.1 फीसदी है। यही मुख्य कारण है कि हिंदू पाकिस्तान में हिंसा का शिकार बनते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here