होम देश Pakistan Gilgit-Baltistan को जल्द दे सकता है प्रांत का दर्जा, मसौदा तैयार,...

Pakistan Gilgit-Baltistan को जल्द दे सकता है प्रांत का दर्जा, मसौदा तैयार, जानिए भारत की प्रतिक्रिया

पाकिस्तान (Pakistan) के कानून और न्याय मंत्रालय (Ministry of Law and Justice) ने गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) को पाक के एक प्रांत के रूप में शामिल करने के लिए मसौदा कानून को अंतिम रूप दिया है। ये जानकारी डॉन अखबार की एक रिपोर्ट के हवाले से आई है। इस क्षेत्र को 2009 से पहले उत्तरी क्षेत्र के रूप में जाना जाता था। बता दें कि जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) कई भागों में बंटा है, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख (Ladakh) का क्षेत्र भारत के पास है, वहीं पाकिस्तान और चीन ने भी जम्मू-कश्मीर के कुछ हिस्सों पर कब्ज़ा किया है। पाकिस्तान ने कब्ज़े वाले भाग को दो भागों में बांटा है, आज़ाद कश्मीर और गिलगित-बाल्टिस्तान। कश्मीर का हिस्सा शक्सगम वैली (Shaksgam Valley) पाकिस्तान के कब्ज़े में था, लेकिन पाकिस्तान ने इसे चीन को दे दिया।

हालांकि, भारत ने दावा किया है कि गिलगित-बाल्टिस्तान भारत का एक अभिन्न अंग है, 1947 में भारत संघ में जम्मू और कश्मीर के अभिन्न अंग होने के बाद नवीनतम रिपोर्ट का जवाब देना बाकी है। भारत के लिए इस क्षेत्र का सामरिक महत्व चीन-पाकिस्तान इकॉनोमिक कॉरिडोर (China-Pakistan Economic Corridor) बनने के बाद बढ़ गया है, बीजिंग अपने बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (Belt and Road Initiative) के हिस्से के रूप में क्षेत्र को विकसित करने के लिए भारी निवेश कर रहा है।

क्या है इस क्षेत्र का इतिहास

गिलगित जम्मू और कश्मीर की रियासत का हिस्सा था, लेकिन सीधे अंग्रेजों द्वारा शासित था, जिन्होंने इसे मुस्लिम बहुल राज्य (Muslim Majority State) के हिंदू शासक हरि सिंह (Hindu ruler Hari Singh) से लीज पर लिया था। जब हरि सिंह 26 अक्टूबर, 1947 को भारत में शामिल हुए, तो गिलगित स्काउट्स (Gilgit Scouts) ने विद्रोह कर दिया, जिसका नेतृत्व उनके ब्रिटिश कमांडर मेजर विलियम अलेक्जेंडर ब्राउन ने किया। गिलगित स्काउट्स ने बाल्टिस्तान पर भी कब्जा कर लिया, जो उस समय लद्दाख का हिस्सा था। साथ ही स्कार्दू, कारगिल और द्रास पर भी कब्जा कर लिया। बाद की लड़ाई में भारतीय सेना ने अगस्त 1948 में कारगिल और द्रास को वापस ले लिया।

इससे पहले, 1 नवंबर, 1947 को गिलगित-बाल्टिस्तान की क्रांतिकारी परिषद नामक एक राजनीतिक संगठन ने गिलगित-बाल्टिस्तान के स्वतंत्र राज्य की घोषणा की थी। 15 नवंबर को उसने घोषणा की कि वह पाकिस्तान में शामिल हो रहा है, इसे सीधे फ्रंटियर क्राइम्स रेगुलेशन के तहत शासित करने का विकल्प चुना, जो कि उत्तर पश्चिम का अशांत आदिवासी क्षेत्रों पर नियंत्रण रखने के लिए अंग्रेजों द्वारा तैयार किया गया एक कानून था।

1 जनवरी, 1949 के भारत-पाकिस्तान युद्धविराम के बाद, उस वर्ष अप्रैल में पाकिस्तान ने आजाद जम्मू और कश्मीर की प्रोविजनल गवर्नमेंट के साथ सैनिकों द्वारा कब्जा किए गए क्षेत्र के लिए एक समझौता किया। इस समझौते के तहत एजेके सरकार ने गिलगित-बाल्टिस्तान का प्रशासन भी पाकिस्तान को सौंप दिया।

पाक ने इसे प्रांत का दर्जा नहीं दिया

1974 में पाकिस्तान ने अपना पहला पूर्ण नागरिक संविधान अपनाया, जिसमें चार प्रांत-पंजाब, सिंध, बलूचिस्तान और खैबर पख्तूनख्वा सूचीबद्ध हैं। इसमें पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (POK) और गिलगित-बाल्टिस्तान को प्रांतों के रूप में शामिल नहीं किया गया। इसका एक कारण यह है कि पाकिस्तान अपने अंतरराष्ट्रीय मामले को कमजोर नहीं करना चाहता था कि कश्मीर मुद्दे का समाधान संयुक्त राष्ट्र के अनुसार होना चाहिए, जिसमें जनमत संग्रह का आह्वान किया गया था।

1975 में पोओके को अपना संविधान मिला, जिससे यह एक स्व-शासित स्वायत्त क्षेत्र बन गया। ये सीधे इस्लामाबाद द्वारा शासित होता रहा (Frontier Crime Regulation 1997 में बंद कर दिया गया था, लेकिन 2018 में निरस्त कर दिया गया था)। वास्तव में, पीओके भी कश्मीर परिषद के माध्यम से पाकिस्तानी संघीय प्रशासन और सुरक्षा एजेंसी के नियंत्रण में रहा। अंतर बस यह था कि पीओके के लोगों के पास अपने स्वयं के संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकार और स्वतंत्रता थी, जो पाकिस्तान के संविधान की झलक है। वहीं अल्पसंख्यक शिया बहुल उत्तरी क्षेत्रों के लोगों का कोई राजनीतिक प्रतिनिधित्व नहीं था। हालांकि नागरिकता और पासपोर्ट समेत उन्हें पाकिस्तानी माना जाता था, लेकिन वे चार प्रांतों और पीओके में उपलब्ध संवैधानिक सुरक्षा के दायरे से बाहर थे।

पहला बदलाव

नई सदी के पहले दशक में ही पाकिस्तान ने उत्तरी क्षेत्रों में अपनी प्रशासनिक व्यवस्था में बदलाव पर विचार करना शुरू कर दिया था, क्योंकि ये यह क्षेत्र चीन की बढ़ती भागीदारी के कारण संवैधानिक अधर में लटका हुआ था। गिलगित-बाल्टिस्तान दोनों देशों के बीच के परियोजनाओं के लिए महत्वपूर्ण है।

2009 में पाकिस्तान ने गिलगित-बाल्टिस्तान (सशक्तिकरण और स्व-शासन) आदेश, 2009 में उत्तरी क्षेत्र विधान परिषद को विधान सभा के साथ बदल दिया और उत्तरी क्षेत्रों को गिलगित-बाल्टिस्तान का नाम वापस दे दिया गया। एनएएलसी एक निर्वाचित निकाय था, लेकिन यह इस्लामाबाद से शासन करने वाले कश्मीर मामलों और उत्तरी क्षेत्रों के मंत्री के लिए सलाहकार की भूमिका से ज्यादा कुछ नहीं था। विधानसभा केवल एक मामूली सुधार है। इसमें 24 सीधे निर्वाचित सदस्य और नौ मनोनीत सदस्य हैं। इस्लामाबाद में सत्ताधारी पार्टी ने 2010 के बाद से क्षेत्र में होने वाले हर चुनाव में जीत हासिल की। नवंबर 2020 में प्रधानमंत्री इमरान खान की पाकिस्तान-तहरीक-ए-इंसाफ ने 33 में से 24 सीटों के साथ जीत हासिल की।

अनंतिम प्रांत का दर्जा देना चाहती है पाकिस्तान सरकार

1 नवंबर, 2020 को गिलगित-बाल्टिस्तान में स्वतंत्रता दिवस मनाया गया, इमरान खान ने घोषणा की कि उनकी सरकार इस क्षेत्र को अनंतिम प्रांतीय दर्जा देगी। इस साल मार्च में नवनिर्वाचित विधानसभा ने एक संशोधन की मांग करते हुए एक सर्वसम्मत प्रस्ताव पारित किया। गिलगित-बाल्टिस्तान को पाकिस्तान का एक अनंतिम प्रांत बनाने के लिए और वो भी कश्मीर विवाद को दरकिनार कर के।

डॉन के अनुसार, इमरान खान ने जुलाई में अपने कानून मंत्री से गिलगित-बाल्टिस्तान को एक प्रांत बनाने के लिए एक मसौदा कानून को तेजी से ट्रैक करने के लिए कहा था। इसे अब 26वें संविधान संशोधन विधेयक के रूप में अंतिम रूप दिया गया है और उन्हें प्रस्तुत किया गया है। प्रस्तावित कानून यह सुझाव देता है कि अनसुलझे कश्मीर मुद्दे और इसकी स्थिति को देखते हुए गिलगित-बाल्टिस्तान को संविधान के अनुच्छेद 1 में संशोधन करके अनंतिम प्रांतीय दर्जा दिया जाए। अलग से विधानसभा की स्थापना के अलावा, पाकिस्तान की संसद में गिलगित-बाल्टिस्तान का प्रतिनिधित्व करने के लिए संशोधनों का एक सेट पेश किया जाएगा। यह भी कहा जाता है कि नेशनल असेंबली और सीनेट में इस क्षेत्र के प्रतिनिधित्व के प्रावधान हैं।

15 लाख लोगों की लंबे समय से चली आ रही मांग होगी पूरी

स्थिति में बदलाव तब होगा, जब गिलगित-बाल्टिस्तान के 15 लाख लोगों की लंबे समय से चली आ रही मांग पूरी होगी। शियाओं में उन्हें निशाना बनाने वाले सांप्रदायिक उग्रवादी समूहों को उकसाने के लिए पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा है, लेकिन यहां माना जा रहा है कि पाकिस्तानी संघ का हिस्सा बनने के बाद ये सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी। वहीं कुछ कुछ रिपोर्टों ने सुझाव दिया है कि पाकिस्तान का निर्णय चीन के दबाव में है, क्योंकि गिलगित-बाल्टिस्तान की अस्पष्ट स्थिति, वहां की परियोजनाओं की वैधता को कमजोर कर सकती है।

ये भी पढ़ें

Tunisia में Professor Najla Bowden बनीं पहली महिला PM, जानिए कौन हैं Prof. Najla ?

Tunisia में पहली महिला PM नामित हुई Najla Bouden Romdhane, जानिए खाड़ी के देशों में क्या है महिलाओं की स्थिति?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Virender Singh के ट्वीट पर खेल निदेशक ने दिया जवाब, गूंगा पहलवान ने ट्वीट कर की थी ये मांग

Virender Singh उर्फ गूंगा पहलवान ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से राज्य के बधिर खिलाड़ियों को पैरा-एथलीट के रूप में मान्यता देने की मांग करते...

APN News Live Updates: Nishad Party ने बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ने का किया ऐलान, पढ़ें 16 जनवरी की सभी बड़ी खबरें

APN News Live Updates: हरिद्वार धर्म संसद में हुई हेट स्पीच (Hate Speech) के मामले में उत्तराखंड पुलिस ने यति नरसिंहानंद को गिरफ्तार कर लिया।

Bollywood News Updates: ‘पुष्पा’ ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, हिंदी वर्जन में कमाए 300 करोड़ रुपये, पढ़ें Entertainment से जुड़ी सभी खबरें

Bollywood News Updates: साउथ सुपर स्टार अल्लू अर्जुन (Allu Arjun) की पुष्पा (Pushpa) ने सिनेमाघरों में धूम मचाई हुई हैं।

UP Election 2022 के लिए AAP ने जारी की पहली सूची, 150 उम्‍मीदवारों को मिली टिकट

UP Election 2022: 5 राज्यों समेत उत्‍तरप्रदेश में भी कुछ दिनों में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं। दिल्ली की सत्ताधारी पार्टी AAP की नजर भी...