किसानों पर लाठीचार्ज को लेकर छिड़ी सियासी जंग, निशाने पर खट्टर सरकार

0
93

देशभर के किसान दिल्ली की दहलीज पर तीनों कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं किसान तीनों कानूनों को काला कह रहे हैं और उन्हें रद्द करने की मांग कर रहे हैं। दिल्ली की दहलीज पर बैठे किसानों को एक साल होने वाला है। आंदोलन के पहले दिन से कहा जा रहा है कि यहां पर सबसे अधिक किसान Haryana और Punjab के हैं।

ऐसे में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि, सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर बैठे किसान हरियाणा के नहीं हैं।

खट्टर ने अपने बयान में कहा कि, कैप्टन अमरिंदर सिंह कौन हैं मेरा इस्तीफा मांगने वाले। उन्हें खुद इस्तीफा देना चाहिए। किसान आंदोलन के पीछे उन्हीं का हाथ है। सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे किसानों में हरियाणा के किसान नहीं है।

बता दें कि, मनोहर लाल खट्टर ने यह बयान पंजाब सीएम के लाठी वाले बयान पर दिया है। दरअसल पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा था कि , करनाल में आंदोलन करे किसानों पर खट्टर सरकार ने लाठियां बरसाईं हैं। वे पंजाब के किसान नहीं है हरियाणा के किसान हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here