बुधवार को ही बीजेपी छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हुए सांसद हरीश मीणा को कांग्रेस ने एक घंटे के अंदर देवली उनियारा से टिकट दे दिया। कांग्रेस की पहली लिस्ट में 2 विधायकों के टिकट काट लिए गए हैं। झाड़ोल से हीरालाल दरांगी और टोडाभीम से घनश्याम मेहर को टिकट नहीं दिया गया है। दरांगी की जगह झाड़ोल से सुनील बजात जबकि टोडाभीम से पृथ्वीराज मीणा को टिकट दिया गया है।

हालांकि सूची जारी होते ही पार्टी कार्यकर्ताओं में असंतोष की लहर भी देखी गई। देर रात नाराज कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष के आवास के बाहर हंगामा किया और पैसे लेकर टिकट देने का आरोप लगाया। इसी बीच मौके पर पहुंची पुलिस ने हंगामा कर रहे करीब दर्जन भर कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया है।

प्रदेश की 200 विधानसभा सीटों के लिए बाक़ी बचे 48 प्रत्याशियों के नामों का ऐलान भी पार्टी शुक्रवार तक कर सकती है। इससे पहले सचिन पायलट ने कहा था कि टिकटों को लेकर पार्टी में कोई गतिरोध नहीं है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की सोच के अनुसार प्रदेश में युवा, महिला, किसान और समाज के सभी वर्गों से प्रतिनिधित्व का मौका इस लिस्ट में दिया जाएगा।

कांग्रेस पार्टी की ओर से पिछले पांच दिनों से विधानसभा चुनाव के लिए अपने प्रत्याशियों की सूची जारी करने की कवायद चल ही थी। बुधवार शाम को सोशल मीडिया पर एक लिस्ट वायरल हो गई। इस लिस्ट में 109 उम्मीदवारों के नाम थे। पांच पेज की इस लिस्ट पर कांग्रेस के जनरल सेक्रेट्री मुकुल वासनिक के हस्ताक्षर होने से पार्टी से टिकट की चाह रखने वाले उम्मीदवारों और उनके समर्थकों में खलबली मच गई। हालांकि बाद में कांग्रेस कम्युनिकेशन डिपार्टमेंट ने इस पूरी लिस्ट को खारिज कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here