Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

8 नवंबर 2016 को नोटबंदी का ऐतिहासिक फैसला लिए हुए करीब डेढ साल से ज्यादा का समय बीत चुका है। नोटबंदी के इतना लंबा समय बीत जाने के बाद भी आरबीआई आम जनता द्वारा लौटाए गए पुराने नोटों की गिनती अभी तक भी पूरी नहीं कर पाया है। नोटबंदी के बाद वापस आए 500 और 1000 के नोटों की गिनती अभी भी जारी है।

आरबीआई 15 महीने पहले बंद हुए नोटों की संख्या के सटीक आकलन और प्रमाणिकता पर अभी भी काम कर रहा है। भारतीय रिजर्व बैंक  ने बताया कि यह काम काफी तेजी के साथ किया जा रहा है।

पिछले दिनों एक समाचार एजेंसी की ओर से दायर एक आरटीआई ऐप्लिकेशन का जवाब देते हुए केंद्रीय बैंक ने बताया, ‘500 और 1000 रुपये के नोटों की सटीक संख्या और प्रमाणिकता जांचने की प्रक्रिया जारी है और इसे जल्द पूरा कर लिया जाएगा। इस प्रक्रिया के पूरे होने के बाद ही पूरी जानकारी साझा की जा सकती है।’

आरबीआई ने कहा, ‘वैरिफिकेशन की प्रक्रिया पूरी होने तक अनुमानित वैल्यू में अंतर हो सकता है। 30 जून, 2017 तक जमा किए गए नोटों की संख्या 15.28 लाख करोड़ रुपये थी।’ बंद हुए नोटों की गिनती खत्म करने की डेडलाइन के बारे में जब पूछा गया तो आरबीआई ने कहा कि ‘गिनती की प्रक्रिया तेजी से पूरी की जा रही है।’

इस समय आरबीआई ने नोटों की गिनती के लिए 59 करंसी वैरिफिकेशन ऐंड प्रॉसेसिंग मशीन (CVPS) लगाई हुई हैं। जवाब में इन मशीनों की लोकेशन की जानकारी नहीं दी गई है। जवाब में कहा गया, ‘इसके अलावा कमर्शल बैंकों की 8 CVPS मशीनों को भी गिनती के काम में लगाया गया है। इसके अलावा 7 CVPS मशीन लीज पर लेकर इस काम में लगाई गई हैं।’

आपको बता दें कि पिछले साल 30 अगस्त को अपनी सालाना रिपोर्ट जारी करते हुए आरबीआई ने बताया था कि 15.28 लाख करोड़ रुपये बैंकिंग सिस्टम में वापस लौटे हैं। रिपोर्ट में बताया गया था कि यह डीमॉनेटाइज हुई कुल करंसी का 99 प्रतिशत था, यानी 16 हजार करोड़ रुपये वापस नहीं लौटे हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.