होम ज़रा हटके संस्कृति दुर्गापूजा विशेष : नौ देवियों की नौ कहानियां पढ़िए सिर्फ यहां

दुर्गापूजा विशेष : नौ देवियों की नौ कहानियां पढ़िए सिर्फ यहां

नवरात्रि की नौ देवियां होते हैं। इन देवियों की कहनी अलग-अलग है। हर देवी के नाम के पीछे सुंदर सा मतलब है। नौ देवियों की उपासना करने से कई तरह के फल भी मिलते हैं। शैलपुत्री माता को सती भी कहा जाता है। वहीं ब्रहमचारिणी माता हिमालय की देवी हैं। क्योंकि इनका जन्म हिमालयराज के यहां हुआ था। इसी तरह और भी देवियों की कहानी हम आप को बता रहे हैं।

नौ देेवियों की कहानी पढ़िए

शैलपुत्री

%E0%A4%B6%E0%A5%88%E0%A4%B2%E0%A4%AA%E0%A5%81%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80

एक बार जब सती अपने पिता प्रजापति दक्ष के आयोजित यज्ञ में बिना किसी निमंत्रित के चली गई लेकिन सती जब घर पहुंचीं तो सिर्फ मां ने ही उन को स्नेह किया बाकी लोगों ने यंग्य कसा तथा भगवान शंकर के प्रति भी तिरस्कार का भाव था। दक्ष ने भी उनके प्रति अपमानजनक वचन कहे। इससे सती को दुख पहुंचा। वे अपने पति का यह अपमान न सह सकीं और योगाग्नि द्वारा अपने आप को जलाकर भस्म कर लिया। इस दारुण दुख से व्यथित होकर शंकर भगवान ने तांडव करते हुये उस यज्ञ का विध्वंस करा दिया। यही सती अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्मी और शैलपुत्री कहलाईं। शैलपुत्री का विवाह भी फिर से भगवान शंकर से हुआ। शैलपुत्री शिव की अर्द्धांगिनी बनीं। इनका महत्व और शक्ति अनंत है।


ब्रह्मचारिणी

%E0%A4%AC%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%B9%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%9A%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A4%BF%E0%A4%A3%E0%A5%80


ब्रह्म पूर्वजन्म में इस देवी ने हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और नारदजी के उपदेश से भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी। इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें तपश्चारिणी अर्थात्‌ ब्रह्मचारिणी नाम से अभिहित किया गया। एक हजार वर्ष तक इन्होंने केवल फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया।


चंद्रघंटा

%E0%A4%9A%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%98%E0%A4%82%E0%A4%9F%E0%A4%BE


इस देवी के मस्तक पर घंटे के आकार का आधा चंद्र है। इसीलिए इस देवी को चंद्रघंटा कहा गया है। इनके शरीर का रंग सोने के समान बहुत चमकीला है। इस देवी के दस हाथ हैं। वे खड्ग और अन्य अस्त्र-शस्त्र से विभूषित हैं। उनकी उपासना-आराधना से सारे कष्टों से मुक्त होकर सहज ही परम पद के अधिकारी बन सकते हैं। यह देवी कल्याणकारी है।


कूष्माण्डा

4. %E0%A4%95%E0%A5%81%E0%A4%B7%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%82%E0%A4%A1


अपनी मंद, हल्की हंसी के द्वारा ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इस देवी को कुष्मांडा नाम से जाना जाता है। इस देवी की आठ भुजाएं हैं, इसलिए अष्टभुजा कहलाईं। इनके सात हाथों में क्रमशः कमण्डल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जप माला है। इस देवी का वाहन सिंह है और इन्हें कुम्हड़े की बलि प्रिय है। संस्कृत में कुम्हड़े को कुष्मांड कहते हैं

स्कंदमाता

5. %E0%A4%B8%E0%A5%8D%E0%A4%95%E0%A4%82%E0%A4%A6%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A4%BE


नवरात्रि का पाँचवाँ दिन स्कंदमाता की उपासना का दिन होता है। मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता परम सुखदायी हैं। माँ अपने भक्तों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति करती हैं। इस देवी की चार भुजाएं हैं। यह दायीं तरफ की ऊपर वाली भुजा से स्कंद को गोद में पकड़े हुए हैं। नीचे वाली भुजा में कमल का पुष्प है। बायीं तरफ ऊपर वाली भुजा में वरदमुद्रा में हैं और नीचे वाली भुजा में कमल पुष्प है।


कात्यायनी

6. %E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%AF%E0%A4%A8%E0%A5%80


माँ दुर्गा के छठे स्वरूप का नाम कात्यायनी है। उस दिन साधक का मन ‘आज्ञा’ चक्र में स्थित होता है। योगसाधना में इस आज्ञा चक्र का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। इनकी उपासना और आराधना से भक्तों को बड़ी आसानी से अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति होती है। उसके रोग, शोक, संताप और भय नष्ट हो जाते हैं। जन्मों के समस्त पाप भी नष्ट हो जाते हैं।
इनका गुण शोधकार्य है। इसीलिए इस वैज्ञानिक युग में कात्यायनी का महत्व सर्वाधिक हो जाता इनकी कृपा से ही सारे कार्य पूरे जो जाते हैं। यह वैद्यनाथ नामक स्थान पर प्रकट होकर पूजी गईं। मां कात्यायनी अमोघ फलदायिनी हैं। भगवान कृष्ण को पति रूप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने इन्हीं की पूजा की थी। यह पूजा कालिंदी यमुना के तट पर की गई थी।


कालरात्रि

7. %E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B2%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A4%BF



कहा जाता है कि कालरात्रि की उपासना करने से ब्रह्मांड की सारी सिद्धियों के दरवाजे खुलने लगते हैं और तमाम असुरी शक्तियां उनके नाम के उच्चारण से ही भयभीत होकर दूर भागने लगती हैं।
नाम से अभिव्यक्त होता है कि मां दुर्गा की यह सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती है अर्थात जिनके शरीर का रंग घने अंधकार की तरह एकदम काला है। नाम से ही जाहिर है कि इनका रूप भयानक है। सिर के बाल बिखरे हुए हैं और गले में विद्युत की तरह चमकने वाली माला है। अंधकारमय स्थितियों का विनाश करने वाली शक्ति हैं कालरात्रि। काल से भी रक्षा करने वाली यह शक्ति है।
इस देवी के तीन नेत्र हैं। यह तीनों ही नेत्र ब्रह्मांड के समान गोल हैं। इनकी सांसों से अग्नि निकलती रहती है। यह गर्दभ की सवारी करती हैं। ऊपर उठे हुए दाहिने हाथ की वर मुद्रा भक्तों को वर देती है। दाहिनी ही तरफ का नीचे वाला हाथ अभय मुद्रा में है। यानी भक्तों हमेशा निडर, निर्भय रहो।


महागौरी

8. %E0%A4%AE%E0%A4%B9%E0%A4%BE%E0%A4%97%E0%A5%8C%E0%A4%B0%E0%A5%80


माँ दुर्गाजी की आठवीं शक्ति का नाम महागौरी है। पति रूप में शिव को प्राप्त करने के लिए महागौरी ने कठोर तपस्या की थी। इसी कारण से इनका शरीर काला पड़ गया लेकिन तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने इनके शरीर को गंगा के पवित्र जल से धोकर कांतिमय बना दिया। उनका रूप गौर वर्ण का हो गया। इसीलिए यह महागौरी कहलाईं।कहते है जो स्त्री मां की पूजा भक्ति भाव सहित करती हैं उनके सुहाग की रक्षा देवी स्वंय करती हैं।


सिद्धिदात्री

9. %E0%A4%B8%E0%A4%BF%E0%A4%A6%E0%A5%8D%E0%A4%A7%E0%A4%BF%E0%A4%A6%E0%A4%BE%E0%A4%A4%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80


माँ दुर्गा की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये नवरात्र में यह अंतिम देवी हैं। हिमाचल के नंदापर्वत पर इनका प्रसिद्ध तीर्थ है, माना जाता है कि इनकी पूजा करने से बाकी देवीयों कि उपासना भी स्वंय हो जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Chhattisgarh Police की लगातार कार्रवाई से बौखलाए नक्सली, एक दर्जन से ज्यादा वाहनों में लगाई आग

Chhattisgarh Police के साथ लगातार मुठभेड़ में मारे जाने से नक्सलियों के साथी बौखला गए हैं। बौखलाए नक्सलियों ने दो अलग-अलग जगहों एक दर्जन से...

Main Chala song out: Salman Khan का नया गाना ‘मैं चला’ हुआ रिलीज, सॅान्ग में यूलिया वंतूर भी आईं नजर

Main Chala song out: बॉलीवुड एक्टर सलमान खान (Salman Khan) के फैंस लाखों लोग है फैंस उनके गानें और फिल्म के आने का बड़ी बेसब्री से इंतजार करते हैं

Jammu-Kashmir News: लेफ्टिनेंट जनरल बोले- घाटी में सुरक्षाबलों और लोगों के अथक प्रयासों से आतंकी घटनाओं में आई कमी

ammu-Kashmir News: उत्तरी कमान के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ, लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी-संबंधी घटनाओं और पथराव की गतिविधियों में कमी आई है।

BECIL 2022: Investigator और Supervisor पदों पर निकली भर्ती, 25 जनवरी है आखिरी तारीख, जल्द करें Apply

BECIL 2022: नौकरी की तलाश में बैठे युवाओं के लिए शानदार खबर है।