होम देश Savarkar के थे Bhagat Singh से खास संबंध इसलिए अंग्रेजों ने उन...

Savarkar के थे Bhagat Singh से खास संबंध इसलिए अंग्रेजों ने उन पर विश्‍वास नहीं किया

एक टीवी शो के दौरान वरिष्‍ठ पत्रकार ने राजदीप सरदेसाई (Rajdeep Sardesai) ने इतिहासकार और लेखक Vikram Sampath से सवाल पूछा कि यह फैसला कौन करेगा कि असल में विनायक दामोदर सावरकर क्‍या हैं ? क्‍या वो स्‍वतंत्रता सेनानी हैं, हिंदुवादी नेता, गौ रक्षक को मूर्ख कहने वाले हैं, छुआछुत के खिलाफ बोलने बोले या मुस्लिम विरोधी हैं ? इसका जबाव देते हुए लेखक विक्रम संपथ ने कहा कि Savarkar के कई चेहरे और रूप हो सकते हैं।

सावरकर के माफीनामे पर विक्रम संपथ ने कहा कि सावरकर ने जो याचिका लिखी थी वो Mercy Petition नहीं थी और वो अकेले नहीं थे जिन्‍हें अंग्रेज सरकार की तरफ से पेंशन मिलती थी, हमारे देश में हजारों स्‍वतंत्रता सेनानी को पेंशन मिलती थी जिनकी डिग्री जब्‍त कर ली गई थी।

अंग्रेजों को सावरकर पर विश्‍वास नहीं था

उन्‍होंने कहा‍ कि अंग्रेजों ने सावरकर पर कभी भी विश्‍वास नहीं किया अगर वो करते तो वो उनका प्रयोग करते क्‍योंकि सावरकर बहुत पढ़ें लिखे थे, उन्‍होंने लंदन से वकालत की थी और उनके संबध बहुत अच्‍छे थे। अगर अंग्रेज उन पर विश्‍वास करते तो वो वायसराय के कैबिनेट के सदस्‍य भी बन सकते थे। हर 5 साल बाद उनकी याचिका Review के लिए जाती थी और हर बार अंग्रेज कहते है कि हम इस इंसान पर विश्‍वास नहीं कर सकते ।

सावरकर के भगत सिंह के साथ खास संबंध थे

विक्रम संपथ ने शो दौरान बताया कि उनके भगत सिंह, चंद्रशेखर आजाद, दुर्गा भाभी और रास बिहारी बोस जैसे अनेक क्रांतिकारियों के साथ Underground नेटवर्क थे इसलिए अंग्रेजों ने सावरकर पर कभी भी विश्‍वास नहीं किया। भगत सिंह ने सावरकर की किताब का 1857 की क्रांति पर आधारित किताब का चौथा संस्‍करण छापा था। उन्‍होंने अपनी जेल डायरी में सावरकर की किताब हिंदुपदपादशाही का मेंशन किया है। भगत सिंह ने मतवाला पत्रिका में सवावरकर पर लेख लिखे। अपने स्‍वतंत्रता से‍नानियों के संबंध को हम समझ नहीं पाए यह भी हमारे इतिहास में खोट है।

सावरकर हत्‍या में शामिल नहीं थे

जहा तक महात्‍मा गांधी की हत्‍या में सावरकर की भूमिका की बात है तो हर बार सुप्रीम कोर्ट ने गांधी की हत्‍या के लिए उनके रोल को नहीं माना है। 2018 में भी सुप्रीम कोर्ट ने महात्‍मा गांधी की हत्‍या में सावरकर की भूमिका वाली याचिका को Review करने से मना कर दिया था। अगर देश का सुप्रीम कोर्ट कोई फैसला देता तो हमें मानना चाहिए।

यह भी पढ़ें : ‘लोग Vinayak Savarkar को नया राष्ट्रपिता बना कर छोड़ेंगे’ RSS के बयान पर Owaisi का पलटवार

Savarkar Controversy: सावरकर के पोते ने कहा- ”गांधी को राष्ट्रपिता नहीं मानता”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

T20 World Cup : Pakistan ने India को 10 विकेटों से हराकर रचा इतिहास, Babar Azam और Rizwan Khan की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी

T20 World Cup 2021 के सुपर 12 के चौथे मैच में Pakistan ने Team India को हारकर मुकाबला को जीत लिया। 2007 में टी20 वर्ल्ड कप शुरू होने के बाद पहली बार ऐसा हुआ कि पाकिस्तान ने भारत को शिकस्त दी है। पाकिस्तान ने इस मुकाबले को जीत कर इतिहास रच दिया। टी20 वर्ल्ड कप में लगातार 5 मैच हारने के बाद पाकिस्तान को पहली जीत मिली है। भारत ने पहले खेलते हुए 20 ओवर में 7 विकेट के नुकसान पर 151 रन बनाए। जवाब में लक्ष्य का पीछा करते हुए पाकिस्तान ने बिना विकेट गंवाए मुकाबले को 10 विकेटों से जीत लिया।

T20 World Cup : Pakistan ने टॉस जीतकर चुनी गेंदबाजी, भारत को लगे शुरुआती झटके

T20 World Cup 2021 के सुपर 12 का चौथा मुकाबला India और Pakistan के बीच खेला जा रहा है। पाकिस्तान के कप्तान बाबर आज़म ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला लिया। दुबई में ग्रुप 2 के मुकाबले में भारतीय टीम 20 ओवर में एक बड़ा स्कोर बनाकर पाकिस्तान के सामने मुश्किल लक्ष्य रखना चाहेगी।

BLOG: ‘सरदार खान’ की भाषा क्यों बोलने लगे हैं कन्हैया कुमार?

मनोज झा ने उस दौर में राजद को चुना जब बिहार की एक बहुत बड़ी आबादी लालू प्रसाद और उनकी पार्टी को अछूत की तरह देखती थी। मीडिया में राजद का हस्तक्षेप या जगह शुन्य के बराबर था। भागलपुर दंगों को लेकर मनोज झा ने जितनी लड़ाई लड़ीं वो बातें पब्लिक डोमेन में है। कन्हैया को भक्त चरण दास की भक्ति से पहले यह भी जानना चाहिए था कि वो जैसे यूनिवर्सिटी के छात्र होने पर गर्व करते हैं, वैसे ही यूनिवर्सिटी में मनोज झा अध्यापक हैं। राजनीति के मैदान में भी दोनों की ही तुलना वैसी ही है।

24 अक्टूबर: Drugs Case में NCB पर लगे गंभीर आरोप, पढ़ें दिन भर की सभी प्रमुख खबरें

APN Live Updates:कांग्रेस पार्टी उस व्यक्ति को अपना सदस्य नहीं बनाएगी, जो शराब या अन्य मादक पदार्थों का सेवन करता हो। सदस्य बनने के लिए इन बुरी आदतों से दूरी बनाए रखना जरूरी है। इसके साथ ही यह हलफनामा भी देना होगा कि वह सार्वजनिक मंचों पर कभी भी पार्टी की नीतियों एवं कार्यक्रमों की आलोचना नहीं करेगा।