होम Legal News SC ने कहा, ''यौन उत्पीड़न के खिलाफ अगर अपील की व्यवस्था ही...

SC ने कहा, ”यौन उत्पीड़न के खिलाफ अगर अपील की व्यवस्था ही ‘सज़ा’ जैसी होगी तो कानून कैसे असरदार होगा?”

Supreme Court का कहना है कि वर्कप्लेस पर यौन उत्पीड़न को रोकने के लिए कानून तब तक पीड़ित के लिए मददगार नहीं हो सकता जब तक कि अपील की व्यवस्था ही ‘सज़ा’ जैसी बने रहे। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस एएस बोपन्ना की बेंच ने कहा,‘यह महत्वपूर्ण है कि अदालतें यौन उत्पीड़न के खिलाफ अधिकार की भावना को बनाए रखें, जो संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत सभी व्यक्तियों को जीवन जीने और सम्मान के साथ जीने का अधिकार देता है।’

”शिकायतकर्ता को कई बाधाओं का सामना करना पड़ता है”

शीर्ष अदालत ने यौन दुराचार की जांच की कार्यवाही के अमान्य होने की बढ़ती प्रवृत्ति पर प्रकाश डाला। शीर्ष अदालत ने कहा, ‘यौन उत्पीड़न से पीड़ित एक अधीनस्थ को अपने वरिष्ठ के यौन दुराचार की रिपोर्ट करने से पहले कई तरह के विचारों और बाधाओं का सामना करना पड़ता है।’ सुप्रीम कोर्ट ने यह कहते हुए केंद्र सरकार द्वारा कलकत्ता हाईकोर्ट के खंडपीठ व एकलपीठ के उस फैसले के खिलाफ दाखिल याचिका को स्वीकार कर लिया जिसमें बीएसएफ के महानिदेशक द्वारा एक कांस्टेबल को यौन दुराचार का दोषी ठहराने के फैसले को गलत ठहराया गया था। महानिदेशक द्वारा हेड कांस्टेबल को कड़ी फटकार के साथ पदोन्नति के लिए पांच साल की सेवा जब्ती और पेंशन के लिए सात साल की सेवा जब्ती की सजा सुनाई गई थी। जबकि हाईकोर्ट ने इस फैसले को पलट दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने मामले के गुण-दोष पर टिप्पणी किए बिना कहा, ‘यह स्पष्ट है कि घटना की तारीख के बारे में विसंगति मामूली प्रकृति की थी क्योंकि घटना आधी रात के तुरंत बाद और अगले दिन हुई थी। हालांकि इस तरह के एक तुच्छ पहलू को बड़ी प्रासंगिकता मानते हुए आरोपी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की संपूर्णता को अमान्य करते हुए और उसे उसके पद पर बहाल करने से शिकायतकर्ता का उपाय शून्य हो गया।’

शीर्ष अदालत ने आगे कहा, इस मामले में हाईकोर्ट द्वारा न केवल कमांडेंट के अधिकार क्षेत्र की व्याख्या दोषपूर्ण है बल्कि कार्यवाही की गंभीरता के प्रति एक कठोर रवैया भी प्रदर्शित किया।

इसे भी पढ़ें: लिव-इन रिलेशन को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिया अहम फैसला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

मुफ्त में चीजें बांटने का वादा करने वाले राजनीतिक दलों को लेकर Supreme Court ने केंद्र और चुनाव आयोग को जारी किया नोटिस

Supreme Court: उत्तर प्रदेश चुनावों से पहले, सुप्रीम कोर्ट ( Supreme Court ) ने केंद्र सरकार और चुनाव आयोग को नोटिस जारी किया है।

Legends League Cricket में असगर अफगान की तूफानी पारी, इंडिया महाराजा की लगातार दूसरी हार

Legends League Cricket में इंडिया महाराजा को लगातार दूसरी हार का सामना करना पड़ा है। एशिया लायंस ने इस मुकाबले में इंडिया महाराजा को 36 रनों से हराया। इस मुकाबले में अफगानिस्तान के असगर अफगान अकेले ही इंडिया महाराजा टीम पर भारी पड़ गए। असगर अफगान ने बल्लेबाजी के बाद गेंदबाजी में भी कमाल का प्रदर्शन करते हुए एशिया लायंस को दूसरी जीत दिला दी। एशिया लायंस तीन में दो जीत के साथ चार अंक लेकर अंकतालिका में टॉप पर हैं।

Petrol Diesel Rate: Delhi-NCR में स्थिर बनी हुई हैं पेट्रोल और डीजल की कीमतें

Petrol Diesel Rate: दिल्‍ली और एनसीआर में पेट्रोल और डीजल की कीमतें अभी स्थिर बनीं हैं। दो दिन पूर्व ही तेल कंपनियों ने लेटेस्‍ट दाम अपडेट कर दिए थे।

मौलाना Tauqeer Raza की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, Central Waqf Council के सदस्‍य Rais Pathan ने दर्ज कराई शिकायत

पिछले दिनों आला हजरत बरेली शरीफ के मौलाना Tauqeer Raza अपने बयानों को लेकर विवादों में घिर गए थे।