जमीन पर लोगों को मानवता की राह दिखाने वाली भगवद्गीता अब आसमान में जाने वाली है। इसके साथ देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का नाम भी शामिल होगा। सेटेलाइट के जरिए भगवद्गीता और प्रधानमंत्री के एक तस्वीर को उनके नाम के साथ अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। फरवरी के आखिर में लॉन्च होने वाली एक सेटेलाइट अपने साथ भगवद्गीता को अंतरिक्ष में लेकर जाएगी। 

भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश दिया था

नैनो सेटेलाइट

ये एक नैनो सेटेलाइट है इसका नाम भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रम को आकार देने वाले महान व्यक्तित्व सतीश धवन के नाम पर रखा गया है। इस नैनो सेटेलाइट को स्पेसकिड्स इंडिया द्वारा डेवलप किया गया है। ये एक ऐसी संस्था है जो छात्रों के बीच अंतरिक्ष विज्ञान को बढ़ावा देती है। भारत ने पिछले साल स्पेस सेक्टर को प्राइवेट क्षेत्रों को खोल दिया था। यह भारत द्वारा डेवलप की गई दो सेटलाइट में से एक है जिसे पहली बार लॉन्च किया जाएगा।

निजी क्षेत्र का यह पहला उपग्रह होगा जो दूसरे अंतरिक्ष मिशन की तरह भगवद् गीता, पीएम के नाम के साथ 25 हजार लोगों के नामों को लेकर अंतरिक्ष में जाने वाला है। पोलर सेटेलाइट लॉन्च व्हिकल (PSLV) द्वारा इसे लॉन्च किया जाएगा। 

1,000 लोगों का नाम शामिल

ये सेटेलाइट तीन अन्य पेलोड्स अपने साथ लेकर जाएगी जिसमें अंतरिक्ष विकिरण, मैग्नेटोस्फीयर का अध्ययन और जो कम बिजली चौड़े क्षेत्र के संचार नेटवर्क का प्रदर्शन करना शामिल होगा।

स्पेसकिड्ज इंडिया की संस्थापक और सीईओ डॉ  केसन ने कहा, जब हमने मिशन को अंतिम रूप दिया, तो हमने लोगों से नाम भेजने को कहा जो अंतरिक्ष में भेजे जाएंगे। और, एक सप्ताह के भीतर हमें 25 हजार एंट्रीज मिलीं। इनमें से 1,000 नाम भारत के बाहर के लोगों द्वारा भेजे गए थे। हमने ऐसा करने का फैसला किया क्योंकि यह मिश अंतरिक्ष विज्ञान में लोगों के हित को बढ़ावा देगा। जिन लोगों के नाम भेजे जाएंगे, उन्हें “बोर्डिंग पास” भी दिया जाएगा।

PSLV-C51 मिशन को 28 फरवरी के लिए निर्धारित किया गया है

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के चेयरपर्सन डॉ के सिवन और वैज्ञानिक सचिव डॉ आर उमामहेश्वरन का नाम नीचे के पैनल पर लिखा गया है। इसरो की सिफारिशों के बाद डिजाइन में बदलाव किए जाने के बाद सेटलाइट रविवार को श्रीहरिकोटा के स्पेसपोर्ट में भेजा जाएगा। इस सेटेलाइट का प्रक्षेपण इसरो अपने विश्वसनीय ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान ‘पीएसएलवी सी-51’ से दो अन्य निजी उपग्रहों के साथ करेगा।

PSLV-C51 मिशन को 28 फरवरी के लिए निर्धारित किया गया है, जो ब्राजील के पृथ्वी अवलोकन सेटेलाइट अमोनिया -1 को प्राथमिक सेटेलाइट के रूप में 20 सह-यात्री सेटेलाइट के रूप में ले जाएगा, जिसमें इसरो के एक नैनोसैटेलाइट, एक अकादमिक संघ द्वारा तीन यूनिटीसैट और एक प्रदर्शन उपग्रह भी शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here