देश में कोरोना की वजह से मेडकिल इमरजेंसी के हालात बने हुए हैं। कोरोना से संबंधित इंजेक्शन रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी जोरों पर है। कालाबजारियों की धर पकड़ के लिए पुलिस भी तत्पर है। उत्तर प्रदेश की राजधानी गोमतीनगर पुलिस ने शुक्रवार को सीतापुर रोड स्थित हर्षा हॉस्पिटल के मालिक शहजाद अली और दवा कंपनी के एमआर समेत चार लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने 54 इंजेक्शन और 51400 बरामद किए हैं। इंस्पेक्टर गोमतीनगर केशव कुमार तिवारी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों में हर्षा हॉस्पिटल का संचालक शहजाद अली और उसके चार साथी हैं।

इंस्पेक्टर ने बताया कि अस्पताल में भर्ती मरीजों के तीमारदारों से शहजाद और उसके स्टाफ के लोग कहते थे कि यह इंजेक्शन लगना बहुत जरूरी है। मार्केट में इंजेक्शन है नहीं तुम लाओगे तो नकली हो सकता है। हम सीधे कंपनी से मंगवाएंगे पर महंगा होगा। तीमारदारों को गुमराह करके शहजाद उन्हें इंजेक्शन लगवाता था और 20 हजार रुपये प्रति इंजेक्शन के हिसाब से वसूलता था।

इंस्पेक्टर ने बताया कि दवा कंपनी का एमआर कृष्णा दीक्षित रेमडेसिविर इंजेक्शन छह हजार रुपये में रितेश गौतम और सचिन रस्तोगी को देता था। इसके बाद यह लोग इंजेक्शन शहजाद को 10500 रुपये में बेचता था। शहजात मरीजों से 20 से 25 हजार रुपये वसूलता था। इंस्पेक्टर ने बताया कि गिरोह के अन्य लोगों की तलाश में दबिश दी जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here