Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली की नई पारी शुरू हो गई है। उन्होंने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के अगले अध्यक्ष का पद संभाल लिया है। बुधवार को बोर्ड के मुंबई स्थित हेडक्वार्टर में जनरल बॉडी मीटिंग के दौरान आधिकारिक तौर पर गांगुली की नियुक्ति की घोषणा की गई। गांगुली निर्विरोध चुने गए हैं। वे जुलाई 2020 तक इस पद पर बने रहेंगे। बीसीसीआई ने ट्वीट करके गांगुली के अध्यक्ष बनने की जानकारी दी।

सौरव गांगुली के अलावा केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे और गुजरात राज्य क्रिकेट संघ के लंबे समय तक सदस्य रहे जय शाह को बीसीसीआइ के नए सचिव के रूप में जिम्मेदारी मिली है। वहीं, बीसीसीआइ के पूर्व अध्यक्ष अनुराग ठाकुर के भाई अरुण सिंह ‌का बोर्ड के कोषाध्यक्ष की कमान मिली है।

बता दें कि 47 साल के सौरव गांगुली ने BCCI की कमान संभालते ही 65 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। दरअसल, सौरव गांगुली 65 साल बाद ऐसे पहले टेस्ट क्रिकेटर हैं, जो बीसीसीआई के अध्यक्ष पद पर काबिज हुए। साल 2003 में खेले गए वनडे वर्ल्ड कप में गांगुली की कप्तानी वाली टीम इंडिया उप-विजेता रही थी। गांगुली को आक्रामक कप्तान माना जाता है जो अपने साहसिक फैसलों के लिए मशहूर रहे हैं। माना जा रहा है कि किसी पूर्व क्रिकेटर के बोर्ड अध्यक्ष बनने से बीसीसीआई में नए दौर की शुरुआत होगी।

विनोद राय ने कहा हम पूरी तरह संतुष्ट हैं। हम बीसीसीआई को 5 पूर्व क्रिकेटरों के हाथों में सौंप कर जा रहे हैं। बीसीसीआई अब भारत के सबसे शानदार कप्तान के हाथों में है। भारत में क्रिकेट पिछले तीन वर्षों में इससे बेहतर नहीं हो सकता था। हमारा कार्यकाल संविधान के अनुसार हुआ है। संविधान के अनुसार बीसीसीआई के चुनाव करवाए गए। हमारे पास केवल सुप्रीम कोर्ट का आदेश था, जिसका पालन करना था

डीडीसीए चेयरमैन रजत शर्मा ने कहा, मुझे यकीन है सौरव गांगुली के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट नई ऊंचाइयां हासिल करेगा। उम्मीद है जय शाह और सौरव के साथ मिलकर उनकी टीम भारतीय क्रिकेट के एक नए युग का आगाज करेगी।

राजीव शुक्ला ने कहा, सौरव गांगुली एक एसैट साबित होंगे, क्योंकि वह सबसे सफल कप्तानों में से भी एक हैं। इसके साथ ही वह कैब के भी सबसे सफल अध्यक्ष रहे हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.