होम देश Supreme Court Collegium ने समलैंगिक वरिष्ठ वकील Saurabh Kripal को Judge बनाने...

Supreme Court Collegium ने समलैंगिक वरिष्ठ वकील Saurabh Kripal को Judge बनाने की सिफारिश की

Supreme Court Collegium ने एक ऐतिहासिक निर्णय लेते हुए सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ समलैंगिक अधिवक्ता सौरभ कृपाल (Saurabh Kirpal) को दिल्‍ली हाईकोर्ट में जज बनाने की सिफारिश की है। अगर केंद्र सरकार कॉलेजियम की इस सिफारिश को मान लेती है और कानून मंत्रालय इसे हरी झंडी दे देता है तो सौरभ कृपाल देश के पहले समलैंगिक जज बन सकते हैं।

सुप्रीम कोर्ट की ओर से इस मामले में एक बयान जारी करते हुए बताया गया कि 11 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम की बैठक हुई। जिसमें वरिष्ठ अधिवक्ता सौरभ कृपाल को दिल्ली हाईकोर्ट में जज बनाने की सिफारिश की गई है। इससे पहले भी मार्च 2021 में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व सीजेआई एसए बोबडे ने मोदी सरकार से सौरभ कृपाल को दिल्ली हाईकोर्ट में जज बनाए जाने के संबंध में केंद्र सरकार से राय मांगी थी।

सुप्रीम कोर्ट पहले भी 4 बार सौरभ कृपाल के नाम की सिफारिश कर चुका है

सुप्रीम कोर्ट अब तक 4 बार केंद्र से सौरभ कृपाल को जज बनाने की सिफारिश कर चुका है। साल 2017 में सुप्रीम कोर्ट के कॉलेजियम ने पहली बार सौरभ कृपाल के नाम की सिफारिश की थी। लेकिन चारों बार केंद्र ने इस पर विचार नहीं किया। अब फिर से कॉलेजियम ने उनके नाम को आगे बढ़ाया तो संभावना जताई जा रही है कि हो सकता है कि केंद्र इस बार उनके नाम को अपनी सहमति दे दे।

020202 2

सुप्रीम कोर्ट के वरिष्य़ वकील सौरभ कृपाल ने दिल्‍ली यूनिवर्सिटी के प्रतिष्ठित सेंट स्‍टीफंस कॉलेज से स्नातक की उपाधि ली है। उसके बाद उन्होंने ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी से विधि की उपाधि ली। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी से ही सौरभ कृपाल ने विधि में परास्नातक की उपाधी भी प्राप्त की है।

सौरभ कृपाल पूर्व CJI जस्टिस बीएन कृपाल के बेटे हैं

सौरभ कृपाल सुप्रीम कोर्ट के पूर्व सीजेआई जस्टिस बीएन कृपाल के बेटे हैं। जस्टिस बीएन कृपाल मई 2002 से नवंबर 2002 तक सुप्रीम कोर्ट के 31वें सीजेआई रहे हैं।

सुप्रीम कोर्ट में लंबे समय से प्रैक्टिस करने वाले वकील सौरभ कृपाल यूनाइटेड नेशंस के लिए जेनेवा में भी काम कर चुके हैं। नवतेज सिंह जोहर बनाम भारत संघ’ जैसे चर्चित केस लड़ने के कारण उन्हें काफी शोहरत मिली है।

सौरभ कृपाल समलैंगिकों के लिए रद्द हो चुकी आपराधिक धारा 377 को हटाये जाने को लेकर भी केस लड़ चुके हैं। सुप्रीम कोर्ट ने सितंबर 2018 में धारा 377 को रद्द कर दिया है। सौरभ कृपाएलजीबीटी (Lesbian, Gay, Bisexual and Transgender) समाज के प्रति अपनी बेबाक राय रखते रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: CJI एन.वी. रमना के नेतृत्व वाले सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने किए बड़े फेरबदल, जानें किस हाईकोर्ट जज को कहां भेजा…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

APN News Live Updates: ओमिक्रॉन की दस्तक से बढ़ा खतरा, राज्यों में अलर्ट

APN News Live Updates: दुनिया भर में Omicron का खौफ देखने को मिल रहा है। साउथ अफ्रिका में लॉकडाउन लगा दिया गया है। ओमिक्रोन वेरिएंट अब 25 देशों में फैल गया है। दरअसल कोविड के नए स्ट्रेन ने अब अमेरिका (US) और यूएई (UAE) में भी दस्तक दे दी है।

Bollywood News Updates: 9 दिसंबर को Vicky Kaushal की दुल्हनिया बनेंगी Katrina Kaif, पढ़ें Entertainment से जुड़ी सभी खबरें

Bollywood News Updates: बॉलीवुड अभिनेता विक्की कौशल (Vicky Kaushal) और कैटरीना कैफ (Katrina Kaif) अपनी शादी को लेकर लगातार सुर्खियों में बने हुए हैं। दोनों कुछ ही दिन में शादी के बंधन में बंधने वाले हैं। बता दें कि हाल ही में खबर फैली थी कि सलमान खान और उनकी फैमिली राजस्थान में कैटरीना की शादी में शामिल होगी। पर अब India Today की रिपोर्ट के मुताबिक सलमान की बहन अर्पिता ने इन सभी बातों पर विराम लगा दिया है।

कर्नाटक में मिले Omicron वैरिएंट के दो मामले, पढ़ें 2 दिसंबर की सभी बड़ी खबरें

APN News Live Updates: दुनिया भर में Omicron का खौफ देखने को मिल रहा है। साउथ अफ्रीका में लॉकडाउन लगा दिया गया है। ओमिक्रोन वेरिएंट अब 25 देशों में फैल गया है। दरअसल कोविड के नए स्ट्रेन ने अब अमेरिका (US) और यूएई (UAE) में भी दस्तक दे दी है। भारत में भी कुछ मामले पाए जाने की संभावना है। भारत में भी हाई रिस्क वाले देशों से आए 6 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

Supreme Court ने Tripura और Bengal हिंसा को एक जैसा माना, अब हाईकोर्ट में होगी मामले की सुनवाई

Tripura में हुई हिंसा के मामले की सुनवाई गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में हुई। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने त्रिपुरा सरकार के खिलाफ TMC के द्वारा लगाए गए आरोपों को हाईकोर्ट के सामने रखने को कहा है। कोर्ट ने TMC के आरोपों को बंगाल चुनाव के दौरान हुई हिंसा में TMC के खिलाफ लगाए गए आरोपों के समान माना है। बता दें कि TMC और अन्य दलों द्वारा त्रिपुरा हिंसा में जांच को लेकर याचिका दाखिल की गई थी।