Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के परिजनों अब इंसाफ मिलने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई जांच की सिफारिश कर दी है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि सुशांत सिंह के पिता ने सीबीआई जांच की अपील की है। इसके बाद राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है। बताया जा रहा है कि जब तक सीबीआई जांच के लिए मंजूरी नहीं मिलती तब तक बिहार से गई एसआईटी मुंबई में ही रहेगी। बिहार सरकार ने डीजीपी से सुशांत सिंह केस में सीबीआई जांच की औपचारिकता पूरी करने के लिए कहा है।

इस मामले में बिहार और मुंबई पुलिस के बीच तालमेल का अभाव दिख रहा था। मुंबई पुलिस पर सहयोग न करने के आरोप और पटना एसपी सिटी को क्वारंटाइन करने के बादइ मुंबई पुलिस कमिश्नर ने कहा था कि ये उनका अधिकार क्षेत्र है। मुंबई के पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने कहा, हमने देखा उन्हें (बिहार पुलिस) एक बड़ी कार में और उसके बाद एक ऑटो में। उन्होंने हमें कार के लिए नहीं कहा। उन्होंने हमें केस के लिए डॉक्यूमेंट्स मांगे। हमने उनसे कहा कि यह हमारा अधिकार क्षेत्र है। परमबीर सिंह ने आगे कहा, उन्हें यह साझा करना चाहिए कि कैसे वे हमारे अधिकार क्षेत्र में आ गए। हम इसकी जांच के लिए कानूनी राय ले रहे हैं।

मुंबई पुलिस के प्रमुख परमबीर सिंह ने सोमवार को कहा कि अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के आवास पर 13 जून को कोई पार्टी नहीं हुई थी। इसके अगले दिन ही वह यहां के बांद्रा स्थित अपार्टमेंट में मृत पाए गए थे। सिंह ने संवाददाताओं से कहा कि मुंबई पुलिस की जांच में किसी भी नेता का नाम सामने नहीं आया है। सिंह ने कहा कि बिहार की पुलिस टीम के साथ सहयोग नहीं करने का सवाल ही नहीं है। बिहार पुलिस की एक टीम सुशांत सिंह राजपूत मामले में जांच के लिए महानगर आई हुई है। पुलिस आयुक्त ने कहा कि इस मामले में मुंबई पुलिस कानूनी मशविरा कर रही है।

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि रिया चक्रवर्ती हमारी आरोपी है, हमारी पुलिस जांच कर रही है, सबूत मिलते ही अब रिया की गिरफ्तारी करेंगे। डीजीपी ने कहा कि मुंबई पुलिस हमें जांच करने नहीं दे रही है। अभी तक सुशांत के पैसे को लेकर कोई जांच ही नहीं की गई। उन्होंने कहा कि हमारे आईपीएस से बंदी जैसा व्यवहार किया जा रहा है।

बहरहाल अब मुख्य मंत्री नीतिश के सीबीआई से जांच करने की सिफारिश के बाद केंद्र सरकार कितनी जल्दी फैसला लेती है, यह देखने वाली बात है। सुशांत को परिजनों के यह भी डर है कि मामले से जुड़े सबूत मिटाए जा सकते हैं।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.