भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच गुरुवार (3 जनवरी) को चौथे टेस्ट खेला जा रहा है। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और बीसीसीआई (BCCI) से की गई एक अनोखी मांग सामने आई है। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को झाबुआ के कड़कनाथ रिसर्च सेंटर (कृषि विज्ञान केंद्र) ने कड़कनाथ चिकन खाने की सलाह दी है। सेंटर ने इस संबंध में भारतीय कप्तान को एक पत्र भी लिखा है। पत्र की कॉपी ट्विटर पर पोस्ट की है। कोहली व टीम के कुछ अन्य सदस्य पहले ग्रिल्ड चिकन खाते थे, जिसे खास तरीके से तैयार किया जाता था।

अब झाबुआ के कृषि विज्ञान केंद्र ने बीसीसीआई और कप्तान कोहली को पत्र लिखकर कड़कनाथ मुर्गे को अपनी डाइट में शामिल करने की मांग की है। इसके बारे में विज्ञान केंद्र के डॉक्टर तोमर ने बताया कि कड़कनाथ में प्रोटीन अधिक और कोलेस्ट्रॉल व फैट बहुत कम मात्रा में होता है। तोमर की ओर से अपने ट्वीट में बकायदा नेशनल रिसर्च सेंटर ऑन मीट हैदराबाद का एक सर्टिफिकेट भी टैग किया गया है। इसमें कड़कनाथ के गुणों की पुष्टि की गई है।

कृषि विज्ञान केंद्र के प्रमुख वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. आइएस तोमर ने बताया कि पत्र में पूरी टीम के लिए सलाह दी गई है कि कड़कनाथ को नियमित डाइट में शामिल किया जा सकता है। दरअसल, कुछ मीडिया रिपो‌र्ट्स में पता चला था कि विराट कोहली और टीम इंडिया के कुछ सदस्य भोजन में ग्रिल्ड चिकन ले रहे थे, लेकिन अधिक कोलेस्ट्रॉल और अधिक फैट होने से इसे बंद करना पड़ा। ऐसे में कड़कनाथ चिकन सही और पूरक साबित हो सकता है।

कड़कनाथ मुर्गों के लिए झाबुआ को जीआई टैग छह महीने की लड़ाई के बाद मिला था। झाबुआ में कृषि विज्ञान केंद्र के साथ काम करने वाले ग्रामीण विकास ट्रस्ट (जीवीटी) ने 2012 में कड़कनाथ पर जीआई टैग के लिए एप्लाय किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here