उन्मुक्त चंद ने 28 साल की उम्र में भारतीय क्रिकेट को कहा अलविदा, अब यूएस में करेंगे कमाल

0
217

साल 2012 में भारत को अंडर-19 वर्ल्ड कप जीताने वाले टीम के कप्तान उन्मुक्त चंद ने महज 28 साल की उम्र में भारतीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। सूचना के अनुसार अब वो भारत में नहीं बल्कि अपनी बल्लेबाजी का जौहर यूएस में दिखा सकते है। उन्मुक्त चंद ने इंडिया अंडर-23 टीम का भी प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। उनकी पहचान एक बेहद प्रतिभाशाली बल्लेबाज के तौर पर की जाती थी, लेकिन उनके खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें कभी भारतीय टीम में खेलने का मौका नहीं मिला। उन्होंने इंडिया ए का भी प्रतिनिधित्व कई मैचों में किया है।

माना जा रहा था कि विराट कोहली के बाद उन्मुक्त भविष्य में टीम इंडिया के स्टार खिलाड़ी बनेंगे। मगर दिल्ली का यह खिलाड़ी उम्मीदों पर खड़ा नहीं उतर सका। अंडर 19 विश्व के फाइनल मैच में उन्मुक्त चंद ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 111 रनों की शतकीय पारी खेलकर खूब वाहवाही बटोरी थी और इसके दम पर ही उनको आईपीएल में खेलने का मौका मिला था।

उन्मुक्त चंद ने अपने ट्विटर पर एक खास पत्र साझा किया जिसमें भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को भारत की तरफ से खेलने का मौका देने के लिए शुक्रिया अदा किया है। इसके अलावा दिल्ली क्रिकेट बोर्ड जहां से उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की थी उसका भी धन्यवाद कहा।

उन्मुक्त ने ट्वीट करते हुए इस बात के संकेत दिया कि उन्होंने ‘रुक जाना नहीं तू कहीं हार के’ गीत के साथ एक वीडियो क्लिप शेयर किया और लिखा कि, अब मेरी जिंदगी की अगली पारी यहां से शुरू होगी। 

उन्मुक्त चंद ने आइपीएल में अपना डेब्यू महज 18 साल 15 दिन की उम्र में कर लिया था, और उन्होंने कई टीमों जैसे कि, दिल्ली डेयरडेविल्स (कैपिटल्स), मुंबई इंडियंस और राजस्थान रॉयल्स के लिए खेला है। दाएं हाथ के इस ओपनर बल्लेबाज ने अपने क्रिकेट करियर में 67 फर्ल्ट क्लास मैच खेलें हैं जिसमें उन्होने 8 शतक के साथ 3379 रन बनाए हैं जबकि 120 लिस्ट ए मैचों में 7 शतकों की मदद से 4505 रन बनाए हैं। उन्होंने 77 टी20 मुकाबले भी खेलें हैं उसमें उन्होने  1565 रन बनाए हैं और तीन शतक भी ठोके हैं। टी20 मैचों में उनका बेस्ट स्कोर 125 रन जबकि फर्स्ट क्लास मैचों में 151 और लिस्ट ए मैचों में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 127 रन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here