होम देश UP Election: अखिलेश यादव की "समाजवादी विजय यात्रा" के जवाब में शिवपाल...

UP Election: अखिलेश यादव की “समाजवादी विजय यात्रा” के जवाब में शिवपाल ने निकाली “सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा”

UP Election: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के दिन जैसे-जैसे नजदीक आते जा रहे हैं। लगभग सभी दल अपनी-अपनी सियासत की बिसात बिछाने में लग गये हैं। जो पिछली बार जीते थे, उनके सामने जीत को बरकरार रखने की चुनौती है और जो पिछली दफे विरोधियों से गच्चा खा गये थे उन्हें इस बार किसी भी हाल में जीत दर्ज करनी है। खैर, सत्ता का ऊंट किस करवट बैठेगा यह तो जनता के वोटों से ही पता चलेगा लेकिन इतना तो तय है कि जीत किसी के लिए भी आसान नहीं होगी।

सत्ता की राह इतनी आसान नहीं होती। सियासत के जानकार कई किस्से बयां करते हैं कि पांच साल के तख्त के लिए न जाने कितनों की राजनीतिक रियासत लुट गई। वैसे अगर देखा जाए तो सत्ता के लिए संघर्ष की अवधारणा तो बहुत पुरानी है और इसमें लड़ाई की शुरूआत सबसे पहले अपने ही घर से होती है।

बिखर गया मुलायम का कुनबा

उत्तर प्रदेश की राजनीति में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव अपनी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के साथ मैदान में आमने-सामने खड़े हैं। इसे मुलायम सिंह का दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि पूरे सूबे में पिछड़ी जाति और खासकर यादवों को एक खूटें से बाधने के बावजूद वो अपने परिवार को नहीं बांध पाये।

शिवपाल यादव का आरोप है कि डॉक्टर (रामगोपाल यादव) ने पूरे परिवार को तोड़ दिया वहीं अखिलेश यादव आरोप का ठीकरा दिवंगत अंकल अमर सिंह पर फोड़ते हैं।

चाचा-भतीजा आमने-सामने सवार हैं रथ पर

इसी का नतीजा है कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आज उत्तर प्रदेश के कानपुर से “समाजवादी विजय यात्रा” का आगाज कर दिया है। वहीं उनके चाचा शिवपाल यादव ने भी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की “सामाजिक परिवर्तन रथयात्रा” की शुरुआत कृष्ण की नगरी मथुरा से की।

इसमें सबसे दिलचस्प पहलू यह है कि दोनों चाचा-भतीजे ने रथयात्रा के लिए एक दिन का चुनाव किया। ऐसा लगता है कि दोनों का मुकाबला भाजपा, बसपा औऱ कांग्रेस से न होकर एक दूसरे से है। अखिलेश यादव की रथयात्रा कानपुर से होते हुए बुंदेलखंड के चार जिलों में जाएगी। अखिलेश के रथ पर पिता मुलायम सिंह की तस्वीर के साथ-साथ आजम खान और रामगोपाल यादव की भी तस्वीर लगी है।

वहीं शिवपाल यादव ने भी अपनी रथ पर मुलायम सिंह की फोटो लगाई है। शिवपाल की रथयात्रा मथुरा से शुरू होकर आगरा, इटावा, औरया, कानपुर देहात, झांसी, महोबा, फतेहपुर, प्रयागराज होते हुए आखिरी चरण में 27 नवंबर को रायबरेली में खत्म होगी।

शिवपाल पड़े अखिलेश के पीछे, अखिलेश पड़े योगी के पीछे

शिवपाल यादव अपने भतीजे की पार्टी के साथ चुनाव में गठबंधन का सपना पाल रहे थे लेकिन अखिलेश यादव ने चुपके से कन्नी काट ली। जिसके बाद शिवपाल यादव खफा हैं और इस चुनाव की तुलना महाभारत के युद्ध से कर रहे हैं। वहीं अखिलेश यादव चाचा की राजनीति से दूर बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं।

अखिलेश यादव बीजेपी पर मां गंगा को धोखा देने का आरोप लगा रहे हैं और योगी सरकार को अक्षम बता रहे हैं। इस चुनाव में अखिलेश यादव को भरोसा है कि उनका यादव और मुस्लिम वोटबैंक एकमुश्त उन्हें वोट देगा। जिसकी सहायता से वह यूपी की सत्ता से योगी आदित्यनाथ की विदाई करा पाएंगे।

अब देखना दिलचस्प यह होगा कि चाचा-भतीजे जो अपनी रथयात्रा में मुलायम सिंह यादव की तस्वीर लगाकर चल रहे हैं, जनता इनमें से किसे मुलायम सिंह का वारिस मानती है। लेकिन इस चुनाव के परिणाम से एक बात तो साफ हो जाएगी कि चाचा-भतीजे में कोई एक ही मुलायम सिंह का असली उत्तराधिकारी बनेगा।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव का बेतुका बयान, बोले – यह बीजेपी की वैक्सीन, मैं नहीं लगाउंगा

अमर सिंह ने अखिलेश यादव को बताया नमाजवादी नेता, आजम खां को बताया राक्षस

अखिलेश यादव के खाली किए बंगले में हुई तोड़फोड, राज्य संपत्ति विभाग कराएगा जांच

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

APN News Live Updates: संसद में उठा नगालैंड का मुद्दा, हंगामें के बाद राज्यसभा स्थगित

APN News Live Updates: नगालैंड में एक दर्जन से अधिक आम लोगों की मौत का मामला देश की संसद तक पहुंच गया।...

Puneeth Rajkumar का ड्रीम प्रोजेक्ट ‘Gandhada Gudi’ का टीजर रिलीज, फैंस हुए भावुक

दिवंगत कन्नड़ सुपरस्टार पुनीत राजकुमार (Puneeth Rajkumar) का निधन 29 अक्टूबर को दिल का दौरा पड़ने से हुआ था। एक्टर कन्नड़ फिल्मों के सुपरस्टार थे। फैंस उन्हें प्यार से अप्पू बुलाते थे। उन्हें आज भी याद किया जाता है। एक बार फिर पुनीत की चर्चा हो रही है। बता दें कि पुनीत राजकुमार का ड्रीम प्रोजेक्ट गंधा गुड़ी (Gandhada Gudi) का आज टीजर रिलीज किया गया हैं जिसे देखकर उऩके फैंस भावुक हो रहें हैं।

Maitri Divas : भारत और बांग्लादेश आज मना रहें हैं मैत्री दिवस, जानें क्या है इसका महत्व

आज India और Bangladesh अपना पहला मैत्री दिवस मना रहा है। भारत और बांग्लादेश  ने हाल ही में  6  December  को यह दिवस मनाने का फैसला किया था। आज ही के दिन भारत ने औपचारिक रूप से बांग्लादेश को  मित्र के रूप में मान्यता दी थी। मार्च 2021 में बांग्लादेश के राष्ट्रीय दिवस में  भाग लेने गए पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने बांग्लादेश की यात्रा के दौरान 6 दिसंबर को मैत्री दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया था। ये फैसला  बांग्लादेश की आजादी के 50 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में लिया गया था। इसका फैसला  PM Narendra Modi और बांग्लादेशी  PM Sheikh Haseena ने किया था। जिसके बाद Foreign Secretary (Harshvardhan Shringla)  ने दोनों देशों के प्रतिनिधिमडंल के बीच हुई बातचीत की विस्तृत जानकारी साझा की थी। ये दिवस भारत और बांग्लादेश के लोगों के बीच गहरी और स्थायी मित्रता का प्रतिबिंब है।

IND vs NZ : New Zealand के खिलाफ बड़ी जीत मिलने के बाद India के कोच Rahul Dravid ने दिया बड़ा बयान

India और New Zealand के बीच खेले गए दूसरे टेस्ट में भारतीय टीम ने सबसे बड़ी जीत हासिल की। मुम्बई टेस्ट में भारत ने न्यूज़ीलैंड को 372 रनों से हराकर सीरीज को 1-0 से जीत लिया। दो मैचों की टेस्ट सीरीज में भारत ने 1-0 से सीरीज पर कब्जा जमाया। पहले टेस्ट मैच में भारत को ड्रॉ से ही संतुष्ट होना पड़ा था लेकिन इस मैच में विराट कोहली के आटे ही सब कुछ बदल गया। रनों के लिहाज ने भारतीय टीम ने अबतक की सबसे बड़ी जीत हासिल की है। इस जीत के बाद राहुल द्रविड़ ने बड़ा बयान दिया।