Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

घर का भेदी लंका ढाए, ये कहावत नवाज शरीफ ने सच साबित कर दिखाई है। एक विभीषण था जिसने रावण के सारे राज भगवान राम तक पहुंचा दिए थे और एक ये नवाज शरीफ है जिसने पाकिस्तान का सबसे महत्वपूर्ण राज पूरी दुनिया के सामने खोल कर रख दिया है। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक ऐसा खुलासा किया है जिसके बाद पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। हमेशा से ही आतंकियों को पाकिस्तान में पालने वाले तथ्य को नकारने वाले नवाज शरीफ ने कहा है, कि 26/11 में मुंबई में हुए आतंकी हमले में पाकिस्तानियों का ही हाथ था। पाकिस्तानी अख़बार द डॉन को दिए गए इंटरव्यू में नवाज शरीफ ने बताया, कि देश में आतंकी सगठन सक्रीय है। बता दें नवाज शरीफ ने इंटरव्यू के दौरान मुंबई हमले की पाकिस्तान में अटकी पड़ी कार्रवाई पर भी आपत्ति जताई।

शुक्रवार को मुल्तान में रैली से पहले इंटरव्यू में नवाज ने कहा, ‘आतंकी संगठन सक्रिय हैं, ऐसे में क्या हमें उन्हें सीमा पार करने और मुंबई में 150 लोगों की हत्या करने की इजाजत दे देनी चाहिए। रावलपिंडी आतंकरोधी अदालत में मुंबई हमलों का ट्रायल लंबित होने का हवाला देते हुए नवाज ने कहा, हमने सुनवाई क्यों नहीं पूरी की? गौरतलब है कि नवाज शरीफ ने यह बयान ऐसे समय में दिया है जब पाकिस्तान में आने वाले दो माह में आम चुनाव होने हैं।

इंटरव्यू के दौरान नवाज ने कहा, ‘आप एक देश को नहीं चला सकते जब दो या तीन समानांतर सरकारें चल रही हों। यह रोकना होगा। सिर्फ एक ही सरकार हो सकती है, जो संवैधानिक प्रक्रिया से चुनी गई हो।’

नवाज से जब यह पूछा गया कि उनकी नजर में वह कौन सा कारण है जिससे उनकी पीएम की कुर्सी गई तो उन्होंने कोई सीधा जवाब तो नहीं दिया लेकिन उन्होंने बातचीत को विदेश नीति और राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे की तरफ मोड़ दिया। नवाज शरीफ ने कहा, ‘हमने अपने आपको अलग कर लिया है। कुर्बानियों के बावजूद हमारी बात कोई स्वीकार नहीं करता। जबकि अफगानिस्तान की कहानी को स्वीकार कर लिया गया, लेकिन हमारी नहीं। हमें इसपर ध्यान देना चाहिए।’

विदित है कि दुनिया के बहुचर्चित पनामा पेपर लीक मामले में नवाज शरीफ का भी नाम शामिल था, जिसके बाद पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें हमेशा के लिए प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था।

यह भी पढ़ें: नवाज शरीफ का राजनीतिक करियर खत्म, पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने किया अयोग्य करार

गौरतलब है कि पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने इसी साल अप्रैल में नवाज शरीफ को चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था। पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा था, कि नवाज शरीफ पर संविधान की धारा 62 (1)(एफ) के तहत आजीवन चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी गई है। यानि अब वह कभी भी चुनाव नहीं लड़ पाएंगे। बता दें ये फैसला पनामा पेपर लीक मामले के प्रकाश में आने के एक साल बाद लिया गया है।

 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.