Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

संयुक्त राष्ट्र की संस्था इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन फॉर माइग्रेशन (IOM) की रिपोर्ट के मुताबिक विदेश में रहने वाले भारतीय अपने देश की सबसे ज्यादा मदद करते हैं। 2018 में भारतीयों ने कुल 5.5 लाख करोड़ रुपये अपने देश भेजे।

रिपोर्ट के अनुसार, विदेश में करीब 1.75 करोड़ भारतीय रहते हैं। ऐसे में हर भारतीय ने औसतन 3.15 लाख रुपये अपने घर भेजे हैं। इससे पहले 2017 में भारत को विदेशों में रहने वाले भारतीयों से 65.3 अरब डॉलर और 2016 में 62.7 अरब डॉलर की राशि प्राप्त हुई थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनियाभर में 2018 में विदेश से भेजे गए कुल पैसे में भारत की हिस्सेदारी 14 फीसदी रही। इस दौरान दुनियाभर के देशों ने करीब 689 अरब डॉलर का विदेशी धन अर्जित किया। जो 2017 में 633 अरब डॉलर रहा था।

रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल केरल में आई बाढ़ की वजह से भारतीयों ने मदद के रूप में सबसे ज्यादा पैसा विदेश से भेजा। यही कारण है कि 2017 के मुकाबले 14 फीसदी ज्यादा विदेशी धन जुटाने में मदद मिली।

भारत को विदेश से मिला कुल धन यानी रेमिटेंस 2018 में आए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मुकाबले दोगुने से भी ज्यादा है। भारत में 2018 में कुल FDI 38 अरब डॉलर रहा था। विदेशों से मिला धन 79 अरब डॉलर के करीब रहा।

इस मामले में भारत चीन से भी आगे निकल गया। क्योंकि पिछले साल चीन को 32 अरब डॉलर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश मिला था। रिपोर्ट के अनुसार, सुस्ती की मार झेल रही भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए इतनी बड़ी मात्रा में विदेशी पूंजी मिलना राहत की बात है।

इंटरनेशनल ऑर्गेनाइजेशन फॉर माइग्रेशन (IOM) की रिपोर्ट में कहा गया है कि, निम्न और मध्य आय वर्ग वाले देशों में विदेशी धन की आमद बढ़ी है। रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल भारत के बाद चीन को 67 अरब डॉलर, मैक्सिको को 36 अरब डॉलर, फिलीपींस को 34 अरब डॉलर और इजिप्ट को 29 अरब डॉलर का विदेशी धन मिला है।

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.