नए साल के साथ फोन नंबर में एक और डीजीट बढ़ जाएगा। भारत में लैंडलाइन से मोबाइल फोन पर कॉल करने के लिए उपभोक्ता को 1 जनवरी से नंबरों के सभी डिजिट को डायल करने से पहले शून्य लगाना पड़ेगा। दूरसंचार विभाग ने  इससे जुड़े ट्राई के प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया है।

शून्य का नियम लागू होने के बाद दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियों को अधिक नंबर बनाने  में आसानी होगी। इस कारण भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण ने इस तरह के कॉल के लिए 29 मई 2020 को नंबर से पहले ‘शून्य’ लगाने की सिफारिश की थी।

डायल करने के तरीके में इस बदलाव से दूरसंचार कंपनियों को मोबाइल सेवाओं के लिए 254.4 करोड़ अतिरिक्त नंबर सृजित करने की सुविधा मिलेगी। यह भविष्य की जरूरतों को पूरा करने में मदद करेगी।

दूरसंचार विभाग ने 20 नवंबर को जारी एक सर्कुलर में कहा कि लैंडलाइन से मोबाइल पर नंबर डायल करने के तरीके में बदलाव की ट्राई की सिफारिशों को मान लिया गया है। इससे मोबाइल एवं लैंडलाइन सेवाओं के लिए पर्याप्त मात्रा में नंबर बनाने की सुविधा मिलेगी। सर्कुलर के मुताबिक, उक्त नियम को लागू करने के बाद लैंडलाइन से मोबाइल पर कॉल करने के लिए नंबर से पहले शून्य डायल करना होगा।

दूरसंचार विभाग ने कहा कि दूरसंचार कंपनियों को लैंडलाइन के सभी ग्राहकों को शून्य डायल करने की सुविधा देनी होगी। यह सुविधा अभी अपने क्षेत्र से बाहर के कॉल करने के लिए उपलब्ध है। दूरसंचार कंपनियों इस नयी व्यवस्था को अपनाने के लिए एक जनवरी तक का समय दिया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here